श्रीराम मन्दिर अन्दोलन की नींव के पत्थर और हिंदुत्व के क्षितिज पर चमकते सूर्य देवलोकवासी अशोक सिंहल जी की पुण्यतिथि पर शत शत नमन

श्रीराम जन्मभूमि आन्दोलन के दौरान जिनकी हुंकार से रामभक्तों के हृदय हर्षित हो जाते थे, वे श्री अशोक सिंहल संन्यासी

Read more

ट्विटर पर दिन रात हिन्दुओ को काका वाणी नाम से अपमानित करने वाला जेहादी सोच वाले अली सोहराब को UP पुलिस ने दबोचा

सोशल मीडिया के दुरूपयोग में वर्तमान समय में सबसे आगे रहने वाले जेहादी सोच के अली सोहराब को आख़िरकार उत्तर

Read more

आज ही के दिन पूरा महाराष्ट्र और भारत का हर हिंदूवादी एक साथ रो कर बोला था – “अनाथ हो गये हम”

ये वो समय था जब हिन्दू या हिंदुत्व की बात करने वालों को भरी सभा से निकाल दिया जाता था

Read more

पुण्यतिथि पर हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब ठाकरे और अशोक सिंहल जी को वचन देता हूँ कि हिदुत्व की राह पर किसी भी स्थिति और किसी भी कीमत पर अंतिम सांस तक संघर्ष करता रहूँगा- सुरेश चव्हाणके

आज पुण्यतिथि है उन महान हस्ती की जिनके बिंदास जीवन को देख कर ही मुझे प्रेरणा मिली थी कि मैं

Read more

पुण्यतिथि विशेषांक- एकतरफा बढ़ती आबादी के खतरे को बहुत पहले भाँप गए थे बाला साहब. 2007 की रैली में उन्होंने कहा था “हरा जहर”

एकतरफा बढ़ रही आबादी के खतरे को जिस प्रकार से राष्ट्रनिर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी लगातार देश

Read more

17 नवम्बर– पुण्यतिथि हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब ठाकरे जी. बारम्बार नमन सोते हिंदुओं को जगा कर आज ही अमरता प्राप्त कर लेने वाले सिंह को

वैसी शख्सियत शायद ही स्वतंत्र भारत मे आई रही हो. अगर किसी को बेताज , सदाबहार बादशाह देखना हो तो

Read more

राष्ट्रीय प्रेस की दिशा, दशा व् सोच को बदलने का हमें गर्व है, जिस रास्ते पर हम 15 साल से चल रहे हैं उस पर आज अन्य मीडिया चलने को आतुर है.. – सुरेश चव्हाणके

ईश्वर को साक्षी मान कर व् अपने पूर्वजो से प्रेरणा ले कर आज से लगभग 15 वर्ष पहले नकली सेकुलरिज्म

Read more

वो राज्य जहाँ पहली बार बताया गया कि गांधी की मौत हत्या नहीं बल्कि दुर्घटना

कल का दिन था जब नाथूराम को फांसी हुई थी.. इस दिन सोशल मीडिया पर नाथूराम के समर्थन में जिस

Read more

16 नवम्बर- बलिदान दिवस, क्रांतिवीर करतार सिंह साराभा. हिस्सा थे उस महान समूह का, जो जंग लड़ रही थी दुश्मनों की छाती पर, अर्थात उनकी ही माटी पर

कोई लाख भले ही बिना खड्ग बिना ढाल के गाने गा ले और कोई कितना भी आज़ादी की ठेकेदारी सडक

Read more

सावरकर के बाद अब स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अपमान.. करने वाले वही जो लेनिन के लिए मचा दिए थे कोहराम. नारे लिखे गये थे उर्दू में

ये वही सोच है जो कुछ समय पहले लेनिन के लिए उन्माद फैला दी थी.. इसमें से कुछ उस फोटो

Read more

Loading...