12 वर्षीय छात्रा का आइक्यू आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से भी ज्यादा

 

इंग्लैंड में भारतवंशी
लड़की राजगौरी ने आईक्यू के मामले में महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन को भी पिछे
छोड़ दिया है। ब्रिटिश मेनसा आईक्यू टेस्ट में
12 वर्षीय छात्रा राजगौरी पवार का आइक्यू आइंस्टीन और
स्टीफन हॉकिंग से ज्यादा पाया गया।

आपको बता दें, राजगौरी ने पिछले महीने मैनचेस्टर
में ब्रिटिश मेनसा आईक्यू टेस्ट में हिस्सा लिया था। उस टेस्ट में उसने
162 अंक हासिल किये, जो कि 18
वर्ष से कम उम्र के किसी बच्चे के लिए सर्वाधिक अंक हैं। मेनसा
टेस्ट में शामिल होने वाले बमुश्किल एक फीसद बच्चे ही इस स्तर को पाते हैं।

मेनसा के मुताबिक, दुनियाभर में ऐसे सिर्फ 20 हजार
लोग हैं। इस शानदार प्रदर्शन के बाद राजगौरी को ब्रिटिश मेनसा आईक्यू सोसायटी का
सदस्य बनाया गया है। मेनसा टेस्ट में
140 अंक से अधिक पाने
वाले को विशिष्ट प्रतिभाशाली माना जाता है। राजगौरी ने
162 अंक
हासिल किए
, जो आइंस्टीन और हॉकिंग से भी दो अंक अधिक है।

राजगौरी के पिता डॉ. सूरज
कुमार पवार को अपनी बेटी पर गर्व तो है ही साथ ही कहा कि बिना अध्यापकों के सहयोग
के राजगौरी के लिए यह उपलब्धि पाना संभव नहीं था। इसलिये वो तहे दिल से उनका
सुक्रिया अदा करता हूँ। 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW