Breaking News:

फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट के बाद कटेंगे पैसे, 150 रुपये देना होगा चार्ज

नई दिल्ली : नोटबंदी के फैसले के बाद अब बैंकों ने बड़ा झकटा दिया है। एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक ने एक महीने में चार बार से अधिक करेंसी जमा करने या निकासी पर न्यूनतम 150 रुपये शुल्क लगाना शुरू कर दिया है। यह नियम 1 अप्रैल से लागू होगा। एचडीएफसी बैंक ने एक सर्कुलर में कहा कि यह शुल्क बचत के साथ-साथ सैलरी खातों पर भी लगेगा।

सर्कुलर के अनुसार साथ ही एचडीएफसी बैंक ने तीसरे पक्ष के लिए नकद लेनदेन की सीमा 25,000 रुपये प्रतिदिन तय की। इसके अलावा नकद रखरखाव शुल्क वापस लिया जाएगा। ये सभी बुधवार से प्रभाव में आ गए हैं। इस कदम को नकद लेन-देन को हतोत्साहित करने तथा डिजिटल भुगतान अभियान को गति देने के कदम के रूप में देखा जा रहा है।

शून्य जमा वाले खातों के लिए अधिकतम चार बार मुफ्त नकद निकासी की सीमा जारी रहेगी और नकद जमा पर कोई शुल्क नहीं लगेगा। आईसीआईसीआई बैंक के मामले में शुल्क वही रहेंगे जो 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा से पहले थी। कुछ अन्य मामलों में ऐसे शुल्क में वृद्धि की गई है।

इसके साथ ही एक्सिस बैंक में आपको 4 जमा या निकासी के बाद हर ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये चार्ज देना होगा वहीं 1 लाख रुपये प्रति महीना से ज्यादा पर 5 रुपये प्रति हजार चार्ज (न्यूनतम 150) देना होगा जबकि आईसीआईसी बैंक में आपको 4 जमा या निकासी के बाद हर ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये चार्ज के साथ ही सर्विस चार्ज देना होगा।

वहीं, पेट्रोल पंपों पर अब क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर बैंक 1 फीसदी एक्स्ट्रा चार्ज वसूल रहे हैं। दरअसल, फरवरी के दूसरे हफ्ते में इस मुद्दे पर अहम बैठक हुई थी और पेट्रोल पंप पर कार्ड पेमेंट पर 1 फीसदी एक्स्ट्रा चार्ज पर सहमति बनी थी। ये बैठक पेट्रोलियम मंत्रालय के संबंधित पक्षों की हुई थी।

Share This Post