1 जुलाई से होगा GST लागू : अरुण जेटली

वित्त मंत्री ने 1 जुलाई से GST लागू करने का फैसला कर लिया है. इसके साथ ही उनका कहना है कि इसकी वजह से किसी भी वस्तुओं के रेट में कोई महत्त्वपूर्ण वृद्धि नहीं होगी, लेकिन कुछ सेवाओं की लागत में जरा सी वृद्धि देखी जा सकती है. आज़ादी के बाद GST लागू होने के बाद इससे देश को काफी बड़ा सुधर मिलेगा. अरुण जेटली का कहना है की राज्य और केंद्र के स्तर पर लगने वाले करों के स्थान पर एक राष्ट्रीय बिक्री कर लगेगा जिससे देश में एकता आएगी और एक साथ कारोबार में निर्माण होगा.

यहां सीआईआई-कोटक निवेशक गोलमेज सम्मेलन को निवेदन करते हुए जेटली ने कहा कि उनकी अध्यक्षता और हर राज्य का निरूपण करने वाली जीएसटी परिषद अगले कुछ दिनों में अलग- अलग वस्तुओं और सेवाओं के लिए कर की दर को अंतिम स्वरूप प्रदान कर देगी और देश एक जुलाई से प्रतिवेदित करों को आसान बनाने के लिए सही रास्ते पर है.

वित्त मंत्री जेटली के अनुसार भारत में मौजूद प्रतिवेदित कर का ढाचा काफी जटिल है. इसमें जो लोग अलग अलग प्राधिकारियों के साथ कार्य करते है. वो पूरे भारत में विभाजित है ऐसे में वस्तु या सेवाओं का मुक्त आवागमन मुमकिन नहीं है. वहीं, जीएसटी परिषद की अगली बैठक 18-19 मई को होनी है, जिसमें टैक्स की दरों को अंतिम रूप दे दिया जाएगा. इसलिए इसे एक जुलाई से लागू करने में उन्हें कोई कठिनाई नहीं दिखती है.

Share This Post