कालेधन पर सरकार की पैनी नजर, नोटबंदी के दौरान 18 लाख बैंक खातों में जमा हुई बड़ी धनराशि

नई दिल्ली : जहां एक ओर मोदी सरकार लगातार कालेधन पर लगाम कसने के लिए जगह-जगह पर छापेमारी कर रही है। वहीं, नोटबंदी के दौरान जनदन खातों में बड़े पैमाने पर धनराशि जमा करने वाले खातों की पहचान हो गई है। सरकार ने ऐसे 18 लाख खातों की पहचान की है जिनकी आय बैंक में जमा किए गए पैसों से मेल नहीं खाते हैं। सरकार ने इन खाता धारकों से जमा धनराशि की जानकारी मांगी है।

शुक्रवार को यह जानकारी केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दी है। जेटली ने लोकसभा में इस संबंध में पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि इस तरह के खातों की जांच के लिए आंकड़ों की पड़ताल की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि देश में नोटबंदी लागू होने के बाद जनधन खातों और निष्क्रिय खातों का गलत इस्तेमाल होने की जांच की गई। हम बड़े पैमाने पर इसकी जांच कर रहे हैं।

जेटली ने कहा कि हम ऐसे लोगों का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं, जिन्होंने बड़ी राशि जमा की है। उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के 18 लाख अकाउंट हैं, जिनमें जमा राशि खाताधारक की आय से मेल नहीं खा रही है। प्राथमिक जानकारी की मांग करने पर कुछ लोगों ने जानकारी दे दी है, जिन लोगों ने जानकारी नहीं दी है उन्हें कानून के तहत नोटिस जारी किए जाएगें।

Share This Post