सोशल मीडिया पर किया जा रहा वायरल कि माफ़ी मांग ली “हिंदुस्तान यूनिलीवर” ने हिन्दू विरोधी एड के लिए.. जानिये ये सच है या झूठ ?

अपने हिन्दू विरोधी छवि के लिए विख्यात से अब कुख्यात हो चुके हिंदुस्तान यूनिलीवर के बारे में पिछले कुछ घंटो से एक चर्चा सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है कि उसने माफ़ी मांग ली है और साथ ही वो अति आपत्तिजनक एड भी हटाने के लिए राजी हो गयी है वो कम्पनी जिसमे होली के बहाने हिन्दुओं को उग्र और आक्रामक दिखाया गया है . ये वायरल हो रहा उन तमाम फेसबुक प्रोफाइलों से भी जो कुछ समय तक उसके बायकाट की अपील भी कर रहे थे .

जब इस मामले की तह तक जाया गया तब ये सामने आया कि अभी तक खुद हिंदुस्तान लीवर कम्पनी ने किसी भी प्रकार का कोई भी ऐसा अधिकारिक बयान तक नहीं दिया और न ही किसी प्रकार का कोई माफीनामा अपने ट्विटर हैंडल पर भी लिखा जिसमे माफ़ी मांगने या एड हटाने जैसी कोई भी बात कही गयी हो . अपने एड पर कायम होने और उसको लाख विरोधों के बाद भी चलाते रहने पर अमादा इस कम्पनी ने किसी भी विरोध के आगे झुकने से फिलहाल इंकार कर दिया है . इस कम्पनी के टोल फ्री कस्टमर केयर नम्बर 18001022221 पर जितने भी फोन जा रहे हैं विरोध में उसमे से भी किसी को भी ये नहीं बताया गया है कि वो इस एड के लिए शर्मिंदा हैं या वो इसको हटाने का विचार भी कर रहे हैं ..

ज्ञात हो कि अंदर तक जांच और तह तक जाने के बाद ये निष्कर्ष निकलता है कि ये मैसेज एक सोची समझी रणनीति का हिस्सा है जिस को इस एड के समर्थको द्वारा फैलाया गया . इसके लिए उन ट्विटर हैंडलो और फेसबुक प्रोफाइलों का प्रयोग किया गया जो कट्टर हिन्दू छवि की लगती हैं लेकिन असल में उनका उपयोग हिन्दू विरोधी छवि के लोग कर रहे हैं . इस संदेश को दुष्प्रचारित करने वालों की मानसिकता होली तक हिन्दुओं में उमड़े जनाक्रोश को शांत करने की लग रही है .  फिलहाल ये मैसेज तेजी से वायरल किया जा रहा है जिसकी पड़ताल करने पर पाया गया है कि ये झूठ है और हिंदुस्तान यूनिलीवर ने न तो ये एड हटाया है और न ही इसके लिए हिन्दुओ कि भावनाओं को पहुची चोट पर किसी प्रकार की माफ़ी मांगी है. हिंदुस्तान यूनिलीवर अभी भी अपने हिन्दू विरोधी एड पर कायम है चाहे वो होली के दिन हिन्दुओ को उग्र दिखाने वाला हो या कुम्भ में अपने बुजुर्गो को मेले में छोड़ देने का हो  …

Share This Post