पहली ऐसी सरकार जिसने हज यात्रा पर सब्सिडी के बजाय लगा दी #GST


जहा पहले कहा जाता था कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमान का है और हज यात्रा के नाम पर सरकार के राजकोशीष खजाने से भारी हज सब्सिडी जारी की जाती थी , लेकिन अचानक बदले समय मे अब हज सब्सिडी तो खत्म ही हुई, साथ ही साथ अब हज यात्र जीएसटी के दायरे में भी आ गई है।
ताजा जानकारी के अनुसार मुकद्दस सफर पर जाने वाले प्रत्येक यात्री को हवाई जहाज के किराए में 18 फीसद जीएसटी देनी होगी। एयरपोर्ट टैक्स के साथ जीएसटी लगने से इसबार लखनऊ से हज यात्र की उड़ान भरने वाले यात्रियों को ग्रीन कैटेगरी में 23,750 और अजीजिया में 23 हजार रुपये अधिक देने होंगे। हज कमेटी ऑफ इंडिया, मुंबई ने हज यात्र 2018 का किराया घोषित कर दिया है। जारी सकरुलर में इसबार लखनऊ से हज यात्र की उड़ान भरने वाले प्रत्येक यात्री को ग्रीन कैटेगरी में 2,60,100 रुपये और अजीजिया में 2,25,950 रुपये अदा करने होंगे। वहीं वाराणसी से ग्रीन कैटेगरी में 2,72,100 और अजीजिया में 2,37,900 रुपये देने होंगे..
ठीक इसी प्रकार दिल्ली से उड़ान भरने वाले प्रदेश के यात्रियों को ग्रीन कैटेगरी में 2,51,950 और अजीजिया में 2,17,800 रुपये देने होंगे। साथ ही मदीना में ठहरने के लिए प्रत्येक यात्री को 700 की जगह इसबार से 950 रियाल चुकाने होंगे। बीते वर्ष लखनऊ से ग्रीन कैटेगरी में 2,36,350 और अजीजिया में 2,02,950 रुपये कुल खर्च था।

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share