अब माह में एक बार ही खुदरा व्यापारियों को भरना होगा रिटर्न

जीएसटी को अमल में लाने से पहले सरकार इसको लेकर फैली आकंक्षाओं को दूर करने में जुट गई है। सरकार इन आकंक्षाओं को दूर कर रही है कि 1 जुलाई से आने वाली जीएसटी की नई टैक्स व्यवस्था बहुत कठिन है और इसमें कई तरह के एक्स्ट्रा बोझ है। वित्त मंत्रालय के राजस्व सचिव हसमुख अथिया ने कहा कि व्यापारियों को हर माह सिर्फ एक जीएसटी रिटर्न भरना होगा। यह मौजूदा व्यवस्था के समान ही होगा। 
उन्होंने कहा कि नई कर प्रणाली न तो जटिल होगी और न ही इसका अनुपालन बेहद मुश्किल होगा। लोगों के बीच ऐसी धारणा बन गई है कि असेसी को हर माह तीन रिटर्न दाखिल करने होंगे, जबकि यह पूरी तरह से गलत है। खुदरा व्यापारियों (बी2सी डीलरों) को हर महिने इनवॉयस के हिसाब से ब्योरा देने की जरूरत नहीं है। अस्सी फीसद व्यवसायियों को रिटर्न में बस कुल कारोबार का ब्योरा देना होगा, क्योंकि वे सभी बी2सी डीलर या रिटेलर हैं। 
बता दें कि जीएसटी 1 जुलाई से लागू होना आर्थिक विकास के लिए कई मायनों में फायदेमंद होगा। चुंगी के नाम पर राज्यों की सीमाओं पर माल ले जाने वाले वाहनों को रोकना और दस्तावेज जांच के नाम पर उन्हें जब्त करना और रिश्वत के लिए विवश करना पुराने दिनों की बात हो जाएगी। 
Share This Post