पैन और आईटी रिटर्न के लिए आधार जरूरी, 1 जुलाई से होगा अनिवार्य

नई दिल्ली : केन्द्र सरकार ने आयकर भरने के नियमों में एक बड़ा बदलाव किया है। सरकार ने बीते शनिवार को स्पष्ट किया कि 1 जुलाई से आयकर रिटर्न दाखिल करने और स्थायी खाता संख्या हासिल करने के लिए आधार और पैन को आपस में जोड़ना अनिवार्य होगा।
सरकार की तरफ से ये स्पष्टीकरण सुप्रीम कोर्ट के इस संबंध में दिए फैसले के एक दिन बाद आया। शीर्ष अदालत ने आयकर अधिनियम में किए गए उस प्रावधान को वैध माना है, जिसमें पैन कार्ड आवंटन और आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए आधार को अनिवार्य किया गया है। 
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नीति-निर्धारक संस्था ने बयान जारी कर कहा कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले में सिर्फ उन लोगों को ही आंशिक राहत दी गई है। जिनके पास आधार कार्ड या फिर पंजीकरण आईडी नहीं है। इसके साथ ही टैक्स बोर्ड ने साफ किया कि ऐसे लोगों का पैन रद्द नहीं किया जाएगा, जिनके पास आधार कार्ड नहीं है।
वहीं, सीबीडीटी ने कहा है कि 1 जुलाई, 2017 को जिस भी व्यक्ति को पैन नंबर आवंटित किया गया है और जिस भी व्यक्ति के पास आधार नंबर है या फिर वह आधार नंबर लेने का पात्र है उसे पैन के साथ आधार नंबर जोड़ने के लिए अपना आधार नंबर आयकर प्रशासन को बताना होगा। 
राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW