पॉपुलिस्ट बजट पर श्री मोदी का आया बयान.. जानिए क्या है ये और क्या रहा बयान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आगामी आम बजट कोई लोकलुभावन बजट नहीं होगा और सरकार सुधारों के आधारों पर चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था पांच प्रमुख कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की जमात से निकलकर दुनिया का आकर्षक गंतव्य बन गया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि यह मात्र एक धारणा है कि लोग मुफ्त की चीजें और छूट चाहते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि यह तय करना है कि देश को आगे बढ़ने और मजबूत होने की जरुरत है या इसे इस राजनैतिक संस्कृति-कांग्रेस की संस्कृति का अनुसरण करना है.

मोदी ने कहा कि आम जनता ईमानदार सरकार चाहती है. आम आदमी छूट या मुफ्त की चीज नहीं चाहता है. उन्होंने कहा सरकार ने जनता के हित के लिए ही फैसले लिए है .
साथ ही पीएम ने जीएसटी के बारे में भी कहा कि उनकी सरकार माल एवं सेवा कर में संसोधन के सुझाव करने के लिए तैयार है ताकि इसे अधिक कारगर प्रणाली बनाया जा सके और इसकी कमियों दूर हो.

साथ ही मोदी ने कहा कि स्वच्छ और स्पष्ट नीतियों के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था फल-फूल रही है और उद्यमी जोखिम उठाने लगे हैं. भारत बड़े आर्थिक अवसरों का देश और वैश्विक निवेश का आकर्षक गंतव्य बन गया है.
यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी सरकार 2019 के आम चुनाव से पहले किए जा रहे अंतिम पूर्ण बजट को लोकलुभावन बजट बनाएगी तो उन्होंने कहा कि यह मामला वित्त मंत्री के दायरे में आता है और वह (मोदी) इस काम में हस्ताक्षेप नहीं करना चाहते.

साथ ही उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने मुझे गुजरात के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के रूप में देखा है वो जानते हैं कि सामान्य जन लोकलुभान चीजों की अपेक्षा नहीं करता यह मात्र एक कोरी कल्पना है.

Share This Post