Breaking News:

कपड़ा व्यापारियों को नहीं रास आ रहा था जीएसटी. विरोध आंदोलन में ही एक गुट लगाने लगा मोदी जिंदाबाद के नारे

जीएसटी का असर कुछ दिन पहले से ही दिखने को मिल रहा है। जीएसटी लागू होने के बाद इसका विरोध करते हुए देशभर के कपड़ा व्यापारियों ने हड़ताल का ऐलान किया है। कल सूरत के कपड़ा व्यापारी जीएसटी के विरोध में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर उतरे थे। उसी वक़्त हड़ताल में शामिल सभी कपड़ा व्यापारियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दी। दरअसल, कपड़ा व्यापारियों में दो गुट हो गये थे, जिसमे एक गुट अपना व्यापार चालू रखा और किसी भी तरह की बिल ना बनाकर अपना विरोध जाहिर करने वाले थे। 
वहीं दूसरे गुट के व्यापारी जीएसटी के विरोध में व्यापार पूर्ण रूप से बंद करने के समर्थन में थे। बताया जा रहा है कि जिस वक्त दूसरे व्यापारियों ने अपने कपड़े की दुकान खोली उसी वक़्त दूसरे गुट ने बन्द करने को कहा। जब उन लोगों ने अपनी दुकान बंद नहीं की तो उन सभी ने हंगामा शुरू कर दिया। इसके बाद वहां भीड़ इकठ्ठा हो गई और विरोध प्रदर्शन करने लगे, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दी। बता दें कि ये लाठीचार्ज मिलेनियम मार्केट के बाहर हुआ है। 
जिस वक्त कपड़ा व्यापारी जीएसटी हटाने की मांग कर रहे थे। अब तक सिर्फ यान पर ही टैक्स की भरपाई करनी पडती थी। अनस्टीच मैटेरियल पर किस भी तरह का कोई भी टैक्स नहीं था। जिसमें केंद्र सरकार के जरिये 1000 के नीचे की कीमत पर 6 प्रतिशत जबकि 1000 की कीमतों पर 12 प्रतिशत जीएसटी लगा चुकी है। कपड़ा व्यापारियों का मानें तो उनका व्यापार पूरी तरह अनऑर्गनाइज सेक्टर है। जहां क्रेडीट पर पूरा व्यापार चलता है। वैसे में 12 प्रतिशत की जीएसटी कैसे। इसी बात पर कपड़ा व्यापारी अपना विरोध कर रहे है।
Share This Post