दुर्दांत अबू सलेम के साथी व नशे के आदी संजय दत्त को बनाया जा रहा “नशा मुक्ति अभियान” का ब्रांड एंबेसडर. सत्ता का एक और आत्मघाती कदम


1993 के मुम्बई ब्लास्ट में अपनी जान देने वालों के परिवार वालों को एक बार फिर से गहरा घाव देते हुए सत्ता ने फिर से वो कदम उठाने की मंशा जताई है जो आने वाले समय मे उनके लिए एक आत्मघाती निर्णय साबित हो सकता है .  कुख्यात अपराधी अबू सलेम व दाऊद इब्राहिम जैसे भारत के सबसे बड़े शत्रुओं से अपने रिश्तों के लिए बदनाम रहे और खुद भी नशे के बड़े आदी रहे संजय दत्त को भारतीय जनता पार्टी अपने कई शासित प्रदेशों में नशा विरोधी अभियान का ब्रांड एंबेसडर बनाने जा रही है जिसके बाद जनाक्रोश उठना शुरू हो गया है और सरकार के इस सम्भावित कदम की खुल कर आलोचना भी ..

ध्यान देने योग्य है कि अंडरवर्ड से अपने रिश्तों के लिए बॉलीवुड ही नहीं बल्कि पूरे भारत में बदनाम रहे बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त नशे के खिलाफ शुरू होने वाली मुहिम का ब्रांड एंबेसडर बनने को तैयार हैं। मुंबई दौरे के दौरान संजय दत्त ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से इस प्रकार की पेशकश की है। ये जानकारी खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दी। यहाँ ये भी गौर करने योग्य है कि जेल जाने, जेल में रहने व जेल से बाहर आने तक मीडिया के एक वर्ग ने जिस प्रकार पूरी तरह से सुनियोजित ढंग से अदालत द्वारा सिद्धदोष अपराधी संजय दत्त की छवि एक हीरो के रूप में गढ़ी थी तब ही ये आभास होने लगा था कि आने वाले समय मे संजय दत्त को ले कर कोई बड़ी तैयारी चल रही है ..

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन्वेस्टर्स समिट के लिए प्रचार प्रसार के लिए 29 अगस्त मुंबई में रोड शो के दौरान मुख्यमंत्री ने फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने निर्देशकों के साथ बैठक की। इस दौरान अभिनेता संजय दत्त भी सीएम ने मिले। रोड शो के बाद संजय दत्त ने मुख्यमंत्री से संपर्क कर नशे के खिलाफ ब्रांड एंबेसडर बनने की पेशकश की है। दत्त का कहना था कि उनके पास निवेश करने के लिए कुछ नहीं है। लेकिन उन्हें पता चला कि उत्तराखंड सहित अन्य कई राज्य ड्रग्स व अन्य प्रकार के नशे के खिलाफ अभियान शुरू करने जा रहे हैं। संजय दत्त का जीवन भी ड्रग्स से प्रभावित रहा है और ड्रग्स के कारण ही उन्हें कई तरह के कष्ट झेलने पड़े। अब वे नशे के खिलाफ खड़ा होना चाहते हैं। आम जनता में इस खबर के आते ही इस फैसले की निंदा व आलोचना शुरू हो गयी है और जनता का कहना है कि ये उन लोगों का बड़ा अपमान है जिन्होंने खुद जीवन भर निर्व्यसन रहते हुए सच्चे रूप में नशे के खिलाफ लड़ाई लड़ी है ..


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...