Breaking News:

पाकिस्तान के जिस कथित गायक राहत फतेह अली खान को भारत मे स्टार बना कर चमकाया गया वो तो निकला कुछ और ही..

इनको सूफी की आवाज बताया जाता था, इनका नाम भारत के बॉलीवुड में सबसे ज्यादा लिया जाता था और इनको तथाकथित कलाकार बता कर इनके सम्मान की नसीहत दी जाती थी.. राहत फतेह अली खान नाम है इनका जिन के खिलाफ एक भी शब्द बोलना भारत की उस तथाकथित धर्मनिरपेक्ष छवि को चोट पहुचाना माना जाता था जिस छवि में निशाने पर हमेशा ही हिन्दू समाज रहा करता है .. आखिरकार सूफी प्रचारक राहत फतेह अली खान का उन्मादी व पाकिस्तानी चेहरा सबके आगे आ ही गया जिसके बाद कथित सेकुलरिज़्म के तमाम ठेकेदारों की आवाज खामोश है और वो एक भी शब्द बोलने से कतरा रहे हैं ..

पाकिस्तान के सूफी गायक राहत फतेह अली खान पर बड़ा आरोप लगा है। राहत फतेह अली खान पर विदेशी मुद्रा की स्मगलिंग का आरोप लगा है। उनपर आरोप है कि उन्होंने भारत से तीन साल तक विदेशी मुद्रा की स्मगलिंग की! मिली जानकारी के मुताबिक राहत फतेह अली को भारत में अवैध तरीके से तीन लाख चालीस हजार यूएस डॉलर मिले थे. इनमें से राहत ने दो लाख पच्चीस हजार डॉलर की स्मगलिंग कर दी थी।

अब मामले की जांच कर रही ईडी ने राहत को फेमा के तहत शोकाज नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। ईडी ने राहत फतेह अली खान से दो करोड़ 61 लाठ रुपये की राशि को लेकर जवाब मांगा है।जांच में ये भी पता चला है कि राहत फतेह अली मीट व्यवसायी मोइन कुरैशी की बेटी की शादी में भी आया थे। मोइन कुरैशी वही कारोबारी है, जिसके मामले की जांच को लेकर सीबीआई में घमासान मच गया था। पता चला है कि राहत फतेह अली खान के पास साल 2011 में भी दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर सवा लाख डॉलर बरामद हुए थे। राहत के पास इन पैसों के कोई दस्तावेज नहीं थे।

इसके बाद हुई जांच में पता चला कि राहत भारत में कार्यक्रमों की आड़ में विदेशी मुद्रा की स्मगलिंग का गोरखधंधा करते हैं। ईडी ने केस दर्ज कर राहत को पूछताछ के लिए नोटिस भी जारी किया था लेकिन राहत इस जांच में सहयोगी के लिए तैयार नहीं थे। इस बीच राहत फतेह अली खान के पैसे बदलवाने वाले मैनेजर की मौत के चलते भी ईडी की जांच में देरी हुई। राहत फतेह अली खान पाकिस्तान के मशहूर सूफी गायक है। उनके चाचा उस्ताद नुसरत फतेह अली खान भी जाने माने सूफी कव्वाल थे। राहत फतेह अली खान ने उन्हीं से गायकी सीखी थी..

Share This Post