कौन सी नमाज जायज है और कौन सी नाजायज.. इसको बताया प्रख्यात गायक सोनू निगम ने

नॉएडा के पार्कों में नमाज पर प्रतिबन्ध लगाये जाने के बड़ा जारी सियासी घमासान के बीच प्रख्यात गायक सोनू निगम ने बड़ा बयान दिया है. बॉलीवुड सिंगर सिंगर सोनू निगम ने नमाज मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि जहां नमाज पढ़ने से लोगों को तकलीफ होती है वो नमाज जायज नहीं है. सोनू निगम ने कहा कि सड़कों पर शोर मचाने को वह धर्म नहीं मानते हैं. जो गलत है वो गलत है और उसे बंद किया जाना चाहिए. कानून सभी के लिए समान है.

एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान सोनू निगम ने अपनी बात को आगे बढाते हुए कहा कि जो गलत है वो गलत है. सार्वजनिक स्थल जनता का है. उस आम जनता में हिंदू भी आते हैं मुसलमान भी आते हैं और नास्तिक भी आते हैं जो किसी धर्म को नहीं मानते हैं. आस्तिक भी आते हैं और बुद्धिस्ट भी आते हैं. तो आप किसी एक धर्म को कैसे वो पार्क दे सकते हैं. सोनू निगम से जब पूछा गया कि इलाकाई मुसलमानों का तर्क है कि वे यहां काफी पहले से नमाज पढ़ते चले आ रहे हैं. सिंगर सोनू निगम ने कहा कि इस तरह तो सती प्रथा भी काफी पहले से चली आ रही थी और बाल विवाह भी काफी पहले से चला आ रहा था.

सोनू निगम ने कहा कि मैं किसी राजनीतिक दल से जुड़ा हुआ नहीं हूं. बस इतना कह सकता हूं कि लोगों को थोड़ा सजग होने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मैंने मेरे एक मुसलमान दोस्त से पूछा कि नमाज कहां पढ़ सकते हैं तो उसने कहा कि नमाज आप कहीं भी पढ़ सकते हैं, लेकिन जहां आपके नमाज पढ़ने से किसी को तकलीफ हो वहां आपकी वो नमाज जायज ही नहीं होगी.

Share This Post