नसीरुद्दीन से कहीं आगे निकली उनकी औलाद.. उसके निशाने पर भी हिंदू और भारत

हिंदुस्तान में रहकर, हिंदुस्तान की हवा में साँस लेकर, हिंदुस्तान की माटी में पलकर तथा हिंदुस्तान से ही दौलत तथा शोहरत कमाने वाले बॉलीवुड अभिनेता नसीरुद्दीन शाह को पिछले दिनों भारत में डर लगा था. नसीरुद्दीन ने कहा था कि उन्हें इस बात का डर है कि भारत में भीड़ उनके बच्चों को घेरकर हमला कर सकती है, निशाना बना सकती है. नसीरुद्दीन शाह के इस बयान के बाद पूरा देश आक्रोश से भर उठा था तथा उनके इस बयान की देशभर में कड़ी आलोचना की गई थी.

पहले शरणार्थी आये, फिर घुसपैठी और अब आ रहे आतंकी.. रंग दिखा रही कथित सेक्यूलर राजनीति

अब नसीरुद्दीन शाह का बेटा विवान शाह भी अपने अब्बू के रास्ते पर चल पड़ा है. खबर के मुताबिक़, बॉलीवुड के अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बाद अब उनके बेटे विवान शाह को भी भारत में रहने को लेकर डर सताने लगा है. नसीरुद्दीन के अभिनेता बेटे विवान शाह का कहना है कि हम एक ऐसे समाज में रहते हैं जो रूढ़िवादी है और जहां मुसलामानों को घर किराए पर नहीं मिलता है. विवान ने यह बयान अपनी आने वाली नई वेब सीरीज ‘ओनली फॉर सिंगल्स’ (Only For Singles) के प्रमोशन के दौरान दिया है.

हिंदुओ के बाद अब निशाने पर पुलिस ? कोर्ट में लगी थी याचिका- “पुलिस हिरासत में मरे 2 मुसलमान”.. जबकि वो वाहन चोरी के संदिग्ध भी थे

बता दें कि विवान शाह नई वेब सीरीज ‘ओनली फॉर सिंगल्स’ में लीड रोल निभा रहे है. इस शो की कहानी उनके दोस्तों के एक ऐसे ग्रुप पर आधारित है जो सिंगल हैं और जिन्हें डेली लाइफ में कई समस्याओं से जूझना पड़ता है. उनसे एक ऐसी बड़ी समस्या के बारे में पूछा गया, जिसका सामना सिंगल लड़के और लड़कियों को करना पड़ता है. जैसे कि उनके साथ कई सिंगल दोस्तों को रहने के लिए किराये का घर ढूंढने में काफी मशक्कतों का सामना करना पड़ता है. मकान मालिकों को किराये में घर देने में दिक्कत होती है.

कांग्रेस के नामी नेता ने जायरा वसीम से पूछा वो सवाल जिसके बाद बवंडर उठना माना जा रहा तय

विवान शाह ने आगे कहा कि इस तरह की किसी समस्या का मैंने डायरेक्टली सामना नहीं किया. लेकिन मैंने यह जरूर देखा है कि खासकर दिल्ली में किस तरह मेरे सिंगल दोस्तों को घर ढूंढने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. मैं दिल्ली में पढ़ा हूं, दिल्ली के कुछ इलाकों में मकान मालिकों को मुस्लिमों को मकान किराए पर देने में दिक्कत होती है और उन्हें सीधे मना कर दिया जाता है. मेरे कुछ दोस्त जिनके नाम मुस्लिम थे, उनका नाम जानते ही उन्हें किराए पर घर नहीं दिया जाता था. हालांकि मेरा नाम विवान है, जो काफी धर्मनिरपेक्ष लगता है. इसलिए मुझे किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post