कश्मीर को दहलाने की साजिश रच रहे हैं इस्लामिक आतंकी.. लेकिन वे न तो पाकिस्तानी हैं, न बांग्लादेशी और न ही रोहिंग्या


पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद मुस्कुरा रहे कश्मीर को फिर से लहूलुहान करने की साजिश रची जा रही है. कश्मीर को दहलाने के लिए इस्लामिक आतंकी तैयार बैठे हैं. बड़ी बात ये है कि इस बार कश्मीर को दहलाने की नापाक साजिश को अंजाम देने की कोशिश में जुटे ये इस्लामिक आतंकी न तो पाकिस्तानी हैं और न ही बांग्लादेशी. ये इस्लामिक आतंकी रोहिंग्या भी नहीं हैं बल्कि ये अफगानी आतंकी हैं.

ये जानकारी खुफिया रिपोर्ट से सामने आई है. प्राप्त हुई जानकारी के मुताबिक़, कश्मीर घाटी में आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI एक बार फिर खतरनाक चाल चलने में जुटी हुई है.  3 दर्जन से ज्यादा आतंकी लॉन्चिंग पैड को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI और आर्मी ने इस वक्त सक्रिय कर दिया है. यहां पर 300 से ज्यादा आतंकवादी लाए गए हैं जिनकी घुसपैठ कराई जा सकती है. पाकिस्तान ने इंटरनेशनल बॉर्डर और LoC के उसपार भारी संख्या में अफगानी और तालिबानी आतंकियों का लॉन्च पैड तैयार किया है.

भारतीय खुफिया एजेंसी को कुछ इनपुट मिले हैं, जिनमें ये आतंकी पश्तो भाषा में बात कर रहे हैं. यही नहीं इन आतंकवादियों को पाकिस्तान की आर्मी अपने कंक्रीट बंकर में भी रुकने दे रही है. पता चला है कि पाकिस्तान बर्फ पिघलने के बाद मार्च-अप्रैल के महीने में इन आतंकवादियों को भारी तादाद में कश्मीर घाटी में घुसपैठ करा सकता है. हाल ही में खुफिया एजेंसियों ने कुछ ऐसे तथ्य जुटाए थे, जिसमें ये पता चला था कि पाकिस्तान PoK में जैश के आतंकियों का ब्रेनवॉश कर रहा है.

जानकारी मिली है कि इसके लिए जैश प्रमुख मसूद अजहर, उसके भाई अब्दुल रउफ के ऑडियो, वीडियो का इस्तेमाल किया जा रहा है. जैश-ए-मोहम्मद, पाक एजेंसी ISI की मदद से अफगानिस्तान में रह रहे तहरीक-ए-तालिबान के आतंकियों का इस्तेमाल कश्मीर घाटी में करने में कर सकता है. करीब 50 से ज्यादा ऐसे विस्फोटकों की ट्रेनिंग ले चुके तालिबानी और जैश के आतंकी PoK में मौजूद हैं. ISI की कोशिश है कि अफगानी आतंकियों द्वारा कश्मीर में हमला कराया जाए.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share