एक इस्लामिक मुल्क की पूरी सेना को ही आतंकी संगठन घोषित कर दिया अमेरिका ने…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक कदम से दुनिया हैरान रह गई है. अमेरिका ने इस्लामिक मुल्क ईरान की सेना को आतंकी संगठन घोषित कर दिया है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को घोषणा की कि अमेरिका ईरान के विशिष्ट सैन्य बल ‘रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प’ (आईआरजीसी) को एक आतंकवादी संगठन घोषित कर रहा है. ट्रंप ने एक बयान में कहा, “यह अप्रत्याशित कदम यह याद दिलाता है कि ईरान न सिर्फ आतंकवाद प्रायोजित करने वाला देश है बल्कि आईआरजीसी आंतकवाद को धन मुहैया कराने और उसे बढ़ावा देने में सक्रियता से लगा है.” यह पहली बार है जब अमेरिका ने दूसरे राष्ट्र की सेना को आतंकवादी संगठन करार दिया है.

महबूबा मुफ्ती! ये भारत है, आपके जैसा धब्बा नहीं जो गायब हो जाएगा- गौतम गंभीर .. फिर भड़क उठी महबूबा और…

इसके साथ ही अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने सोमवार को सभी बैंकों और कारोबारों को ईरान के रिवॉल्युशनरी गार्ड्स के साथ कामकाज जारी रखने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है. पॉम्पियो ने पत्रकारों से कहा, ‘दुनियाभर के सभी बैंकों और कारोबारों को अब यह सुनिश्चित करना होगा कि वह जिस भी कंपनी के साथ वित्तीय लेनदेन कर रहे हैं, उनका लेनदेन किसी भी हालत में ईरान के रिवॉल्युशनरी गार्ड्स समूह के साथ नहीं हो.’

जिसका जवाब पसंद नहीं आता उसको ट्विटर पर ब्लॉक कर देती हैं महबूबा.. पहले कपिल मिश्रा और अब एक और

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि यह कदम एक सप्ताह के भीतर प्रभावी हो जाएगा. पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका “ईरान को एक सामान्य राष्ट्र की तरह व्यवहार” करने के लिए पाबंदी और दबाव जारी रखेगा और अमेरिका के सहयोगियों से इसी तरह की कार्रवाई करने की अपील करेगा. पॉम्पियो ने कहा, “ईरान के नेता क्रांतिकारी नहीं हैं और लोगों को बेहतर के हकदार हैं. उन्होंने कहा, “वे अवसरवादी हैं.” इसके अलावा एक ट्वीट में पॉम्पिओ ने कहा, “हमें ईरान के लोगों को उनकी स्वतंत्रता वापस पाने में मदद करनी चाहिए.

CBI ने बताई लालू की वो चाल जो उन्होंने इस चुनाव में सोच रखी है

मीडिया सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक़, इट हाउस की ओर से ईरान के खिलाफ आक्रामक रणनीतिक कदम बढ़ाने के हिस्से के तहत प्रतिबंध का फैसला लिया गया है. आईआरजीसी का गठन अप्रैल 1979 में ईरानी क्रांति के बाद हुआ था. अधिकारी कई महीनों से इसे सूची में डालने पर बहस करते रहे हैं. सीएनएन की जुलाई 2018 की रिपोर्ट के अनुसार प्रशासन ऐसा करने पर विचार कर रहा था. रक्षा अधिकारियों ने सीएनएन से कहा कि सीरिया और इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों की आईआरजीसी के सदस्यों से अक्सर मुठभेड़ हुई है.

क्या अम्बेडकर चाहते थे दलितों और मुसलमानों में एकता ? योगी आदित्यनाथ ने किया बड़ा खुलासा

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

 

Share This Post