40 हजार करोड़ बचाने के लिए एक प्लान के तहत दोबारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने थे देवेन्द्र फडणवीस.. बीजेपी नेता के बयान से सियासी घमासान


बीजेपी ने एक योजना के तहत देवेन्द्र फडणवीस को दोबारा मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी? ये सवाल अभी तक तो नहीं उठा लेकिन बिना सवाल के ही इस सवाल का जवाब आने के बाद ये सवाल खड़ा हो रहा है. दरअसल देवेन्द्र फडणवीस ने एनसीपी नेता अजित पवार के साथ मिलकर सरकार बना ली थी, लेकिन बहुमत न होने के कारण 3 दिन बाद ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था. इसको लेकर विपक्ष लगातार बीजेपी पर तंज कास रहा है.

इस बीजेपी बीजेपी के फायरब्रांड नेता अनंत हेगड़े ने एक ऐसा बयान दिया है, जिस पर सियासत में उबाल आ गया है. कर्नाटक की उत्तर कन्नड़ लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद अनंत कुमार हेगेड़े ने कहा है कि केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये बचाने के लिए बहुमत न होने के बावजूद देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाया गया था. हेगड़े के बयान पर शिवसेना ने तीखी प्रतिक्रिया दी है और इसे ‘महाराष्ट्र के साथ गद्दारी’ करार दिया है. वहीं देवेन्द्र फडणवीस ने अनंत हेगड़े के बयान को खारिज करते हुए कहा है कि ये सब झूठ है.

बीजेपी नेता अनंत हेगड़े ने कहा है कि आप सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में हमारा आदमी 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बना. फिर फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा भी दे दिया. उन्होंने यह ड्रामा क्यों किया? क्या हम यह नहीं जानते थे कि हमारे पास बहुमत नहीं था और फिर भी वह सीएम बने. हर कोई यह सवाल पूछ रहा है. हेगड़े ने आगे कहा कि वहां मुख्यमंत्री के नियंत्रण में केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये थे. वह जानते थे कि यदि कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की सरकार सत्ता में आ जाती है तो वे विकास के बजाए रकम का दुरुपयोग करेंगे. इस वजह से यह पूरा ड्रामा किया गया. फडणवीस मुख्यमंत्री बने और 15 घंटे में केंद्र को 40 हजार करोड़ रुपये वापस कर दिए गए.

केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री रहे अनंत हेगड़े के पर शिवसेना ने तीखी प्रतिक्रिया दी है और इसे ‘महाराष्ट्र के साथ गद्दारी’ करार दिया है. शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने ट्वीट किया, ‘BJP सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने कहा है कि 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बनकर देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के 40,000 करोड़ रुपये को केंद्र को दे दिया? यह महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है.’ हेगड़े के इस बयान पर देवेन्द्र फडणवीस ने सफाई दी है तथा कहा है कि हेगड़े का दावा गलत है तथा उन्होंने कोई पैसा नहीं लौटाया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share