बिहार प्रशासन में मुख्यमंत्री का प्रभाव खत्म. वैशाली जिले में मार डाला गया बजरंग दल कार्यकर्ता तो नवादा जिले में कब्जा कर लिया हिन्दू सम्राट का महल


जिस बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार सुशासन के दावे किये जा रहे हैं उस बिहार में वर्तमान समय में जो हालत हैं उसको देख कर कम से कम किसी सुशासन के लक्षण नाम मात्र भी नही दिखाई दे रहा है. आये दिन विपक्षी पार्टियां भाजपा के साथ बिहार की बागडोर सम्भाल रहे जनता दल यूनाईटेड पर कई सवाल खड़े कर रही हैं. अगर गहनता से देखा जाय तो ये मौक़ा उन्हें खुद नीतीश कुमार का प्रशासन दे रहा है जिसके वीभत्स रूप को जिला नवादा और वैशाली में देखा जा सकता है.

पहले बात नवादा जिले की तो यहाँ पर रजौली डीह गाँव में एक अतिप्राचीन धरोहर को जबरन कब्जा करने की खबर आई. लेकिन जब इस मामले की गहन पड़ताल की गई तो इस अवैध कब्जेदारी में शामिल उसी जिले के कुछ अधिकारी ही सामने आये जिनका परोक्ष संरक्षण था. गाँव के लोगों ने बार बार शिकायत की तो भी उन पर कोई फर्क नहीं पड़ा और कब्जेदार को वहीँ के अधिकारी शायद ये विश्वास दिलाते रहे कि निश्चिंत रहो, वो हैं न.. कुल मिला कर कहना गलत नहीं होगा कि नवादा जिले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के आदेशो की सीमा समाप्त हो जाती है.

ये एक प्राचीन हिन्दू सम्राट का महल था जिसके नीचे खुदाई आदि के बाद और भी पुरातात्विक चीजें मिलने की सम्भावना है लेकिन जिस प्रकार से इस जिले के अधिकारीयों ने न सिर्फ उस पर कब्जा करवाया और उन कब्जेदारों को संरक्षण दिया उसके बाद जिला नवादा की जनता की दयनीय हालात का अंदाजा स्वतः लगाया जा सकता है. यहाँ पर प्रशासनिक अधिकारी व् पुलिस बल अवैध कब्जा करने वालों के साथ व् इसका विरोध करने वालों के खिलाफ खड़े दिखाई दे रहे हैं. यहाँ के कुछ अधिकारियो के जातिवादी मानसिकता से काम करने की बात भी कही जा रही है.. खास बात ये है कि ये अवैध कब्जा उस अधिकारी के संरक्षण में हुआ है जिनका नाम एक महान क्रांतिकारी के नाम पर है.. यद्दपि उनके काम निश्चित रूप से उनसे भिन्न है.

दूसरा मामला बिहार के ही जिला वैशाली से है.. यहाँ पर बजरंग दल के एक कार्यकर्ता की गोली मार कर हत्या कर दी गई है.. अभी कुछ समय पहले बिहार सरकार हिंदूवादी नेताओं की लिस्ट बनाने के लिए चर्चा में आई थी..उस समय तमाम तरह की अटकलें लगाईं जा रही थी.. फिलहाल एक हिंदूवादी नेता की बेरहमी से हत्या के बाद बाकी तमाम हिन्दू संगठनों में आक्रोश है और सवाल उठना शुरू हो गया है कि क्या इसके बाद और भी लोग निशाने पर आयेंगे ?

खबर के मुताबिक बिहार के हाजीपुर में एक हिंदूवादी नेता की गोली मार कर हत्या कर दी गई. अंतरराष्ट्रीय बजरंग दल के नेता नीरज कुमार की हत्या कर उनके शव को कुएं में डाल दिया गया था. बुधवार से लापता बजरंग दल के नेता का शव 24 घंटे बाद बरामद किया गया. अंतरराष्ट्रीय बजरंग दल के नेता नीरज कुमार बुधवार को दोपहर एक बजे से लापता थे. कुछ लोग वारदात वाली जगह पर कुएं को ढकने की कोशिश कर रहे थे. इसी बीच पुलिस के साथ अपने नेता को ढूंढ रहे संगठन के लोग पहुंच गए. मौके से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया. काफी मुश्किल से मृतक का शव कुएं से निकाला गया.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share