Breaking News:

गौ रक्षकों को कोसने वाले ध्यान दें.. बंद होने की कगार पर हैं हिन्दूओं का क्षीर भवानी मेला पत्थरबाजों के खौफ से

श्रीनगर : कश्मीर के गंदरबल जिले के तुलमुला इलाके में स्थित मां राघेन्य के पावन जन्म दिवस पर हर वर्ष दो दिन तक क्षीर भवानी मेले का आयोजन किया जाता हैं और बहुत ही उत्साह के साथ हर वर्ष इस उत्सव का आनंद उठाते हैं।

लेकिन, इस वर्ष 2 जून को होने जा रहे क्षीरभवानी मेले में शामिल होने वाले कश्मीरी पंडितो में उत्साह कम हैं। क्योकि इस बार कश्मीर में पत्थरबाजों की तूती बोल रही हैं और ऐसे में कश्मीर का माहौल गर्माया हुआ हैं। जिसके चलते कश्मीरी पंडित अब सुरक्षा की मांग कर रहे हैं।

बल्कि क्षीरभवानी यात्रा नजदीक आने के साथ ही कश्मीरी पंडितो ने अपनी तैयारी तेज कर दी हैं। सूत्रों का कहना हैं कि अपनी तैयारियों को लेकर योजना बनाने के साथ ही पंडित रजिस्ट्रेशन करवा रहे हैं और 31 मई को कश्मीरी पंडित अपने परिवार के रवाना हो जायगे। इस बार की यात्रा के लिए कश्मीरी पंडित द्वारा सरकार से सुरक्षा के कड़े प्रबंधों की मांग की जा रही हैं।

पंडितो का कहना हैं कि कश्मीर में सेटेलाइट की टाउन के हालात ठीक नहीं हैं और अलगाववादियों की बढ़ती धमकियों के चलते उन्हें काफी परेशानीयों का सामना करना पड़ता हैं। जिसके बावजूद जम्मू के विभिन्न इलाको में रहने कश्मीरी पंडित परिवारों ने पूरी आस्था के साथ ज्येष्ठाष्टमी के पवन पर्व पर क्षीरभवानी मेले में जाने का पूरा मन बना रखा हैं।        

Share This Post