14 साल की नाबालिग बच्ची का जीवन काम के बहाने बर्बाद कर डाला दादा की उम्र वाले बशीर खान ने


आखिर वो कौन सी सोच है महिलाओं को मात्र अपनी हवस की पूर्ती का साधन मात्र समझती हैं? वह कौन सी सोच है जिसके लिए नारी वर्ग की अहमियत सिर्फ और सिर्फ हवस मिटाने के लिए होती है ? वो कौन सी सोच हो जो अपनी हवस की भूख में इतनी ज्यादा अंधी हो जाती है कि इसके लिए सारी मान-मर्यादाएं तोड़ देती है तथा अपनी दरिंदगी का शिकार मासूम बच्चियों तक को बना लेती है, उनके बचपन को उस्न्की अस्मिता को कुचल देती है? सबसे बड़ा सवाल यही है कि आखिर ये सोच आती कहाँ से है?

इसी दुराचारी तथा बहशी सोच का शिकार छतीसगढ़ के भिलाई की 14 वर्षीय नाबालिग बच्ची हुई है, जिसके साथ उसकी दादा के उम्र के बशीर खान ने बलात्कार की घटना को अंजाम दिया. बताया गया है कि बशीर खान नाबालिग को काम दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया था, जहाँ उसके साथ बलात्कार किया. शुक्रवार को स्वयं बशीर पीड़िता को लेकर घर पहुंचा तथा किसी न बताने की धमकी दी. इसके बाद भी पीडिता ने परिजनों को घटना की जानकारी दी. इसके बाद पीड़िता अपने परिजनों के साथ छावनी थाने पहुंची. शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू की है.

खबर के मुताबिक़, भिलाई के कैंप-1 शांति पारा निवासी बशीर खान सप्ताह भर पहले पीड़िता को अपने साथ लेकर ओडिशा गया था. बशीर खान वहां पर गद्दा, सोफा व तकिये के कवर बेचने का काम करता है. पीड़िता गरीब परिवार की है, इसलिए वह बशीर खान के साथ काम करने के लिए गई थी. वहीं पीडिता के साथ बशीर ने  दुष्कर्म किया. पुलिस ने शिकायत के आधार पर मामले की जांच शुरू कर दी है तथा बशीर खान को गिरफ्तार कर लिया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share