दिल्ली पुलिस को कटघरे में खड़ा करने वाले अब खुद कटघरे में.. जानिये क्या पुलिस ने पहले गोली चलाई ?


दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में दिल्ली पुलिस तथा वकीलों के बीच हुए विवाद में जो लोग दिल्ली पुलिस को कटघरे में खड़ा कर रहे थे, वो अब खुद कटघरे में फंसते हुए दिखाई दे रहे हैं. दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया जा रहा था कि दिल्ली पुलिस ने वकीलों पर पहले गोली चलाई, जिसमें एक वकील घायल हो गया था, इसके बाद वकील भड़क उठे तथा हालात बेकाबू होते चले गये. लेकिन इसकी हकीकत क्या थी वो अब सामने आई है तथा दिल्ली पुलिस पर निशाना साधने वाले शायद इसके बाद शर्मिंदा भी हो सकते हैं.

जानकारी के मुताबिक़, दिल्ली पुलिस पर पहले गोली चलाने का जो आरोप लगाया गया था वो आरोप गलत पाया गया है. जानकारी मिली है कि तीस हजारी कोर्ट में दिल्ली पुलिस तथा वकीलों के बीच विवाद में दिल्ली पुलिस ने पहले गोली नहीं चलाई थी. ये जानकारी मामले की जांच कर रही SIT रिपोर्ट से सामने आई है. दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के अनुसार मामले की जांच कर रही एसआईटी ने अब तक करीब 42 लोगों के बयान दर्ज कर लिए हैं. इनमें तीस हजारी कोर्ट के वेंडर, पुलिस जवान व वकील शामिल हैं.

पुलिस अधिकारियों के अनुसार तीस हजारी कोर्ट की फुटेज को गहनता से देखा जा रहा है और फुटेज से आरोपियों की पहचान की जा रही है. एसआईटी सदस्यों को फुटेज से पता चला है कि लॉकअप की सुरक्षा में तैनात तीसरी बटालियन के जवानों ने पहले गोली नहीं चलाई थी बल्कि पेपर स्प्रे का इस्तेमाल किया था ताकि भीड़ को हटाया व तितर-बितर किया जा सके. इसके बाद वकील नहीं माने और लॉकअप का गेट तोड़ दिया तो तीसरी बटालियन के एएसआई ने हवा में दो गोलियां चला दी थीं. एक गोली लॉकअप के लोहे के एंगल से टकराकर वकील को लग गई थी.

इसी बीच SIT जांच में एक बड़ी खबर ये भी सामने आई है कि तीस हजारी कोर्ट के लॉकअप के सामने उत्तरी जिले के तत्कालीन अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार के ऑपरेटर सिपाही अमित की सर्विस रिवाल्वर (ग्लॉक पिस्टल) भी छीन ली गई थी. सीसीटीवी फुटेज में रिवाल्वर छीनते हुए एक वकील दिखाई दे रहा है. उस समय दर्जनों वकील सिपाही को घेरे हुए थे. अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार सिपाही अमित ने जब अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त को बचाने की कोशिश की तो लॉकअप के सामने वकीलों ने उसे घेर लिया तथा रिवाल्वर छीन ली.

अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार, करीब 50 से ज्यादा वकील उसे घेरे हुए थे. भीड़ में मौजूद एक वकील ने सिपाही की रिवाल्वर छीन ली. उसके साथ मारपीट भी की गई. अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार रिवाल्वर की बरामदगी के प्रयास किए जा रहे हैं. रिवाल्वर में कारतूस भी थे. एसआईटी को मौके से करीब 41 सीसीटीवी फुटेज मिले हैं. इस विवाद की हाईकोर्ट के आदेश पर न्यायिक जांच भी हो रही है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share