Breaking News:

सावरकर का अपमान अब नही सहेगा हिन्दुस्थान. उस वामपंथी पर दर्ज हुआ मामला जिसको कभी मिला था एक पुरष्कार


जो मुहिम कांग्रेस ने सोच समझ कर स्वतंत्र वीर सावरकार के खिलाफ छेड़ी थी उसका जैसे कुछ वो लोग इंतजार कर रहे थे जिनको वामपंथी विचारधारा वाला माना जाता रहा है और वो भी जिन्होंने पहले भी उस समय बयानबाजी की है जब हिन्दू या हिंदुत्व से जुडा मामला था. फ़िलहाल कुछ समय पहले पुरष्कार लौटाने वाले चर्चा में आये थे लेकिन एक लम्बी ख़ामोशी के बाद एक बार फिर से पुरष्कार पाने वाले फिर से चर्चा में है जिसमे से एक नाम है संदीप पाण्डेय. इन्हें वामपंथी विचारधारा वाला माना जाता है.

अरुंधती राय के बाद अब एक और नाम चर्चा में है संदीप पाण्डेय जिन्होंने वीर सावरकर के खिलाफ कांग्रेस के सुर में सुर मिलाये थे. इन्हें कभी मैग्सेसे पुरष्कार मिला था. ध्यान देने योग्य है कि हिंदू महासभा की शिकायत पर मैग्सेसे पुरस्कार विजेता संदीप पांडे के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए (दंगों के इरादे से उकसावे) और 505 (1) बी (जनता या समुदाय को अपराध करने के लिए उकसाना) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

संदीप पाण्डेय अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी में जा कर ऐसे तमाम बातें बोल कर आये थे जो आपत्तिजनक थीं. उनके बयान पूरी तरह से राजनैतिक रंग में रंगे थे. उन्होंने दावा किया कि नकाबपोश गुंडे, जिसे कुछ दक्षिणपंथी संगठनों ने किराए पर लिया था। उन्होंने JNU, Jamia और AMU के शांतिपूर्ण प्रदर्शन को बाधित किया और वे ही इन संस्थानों में हिंसा के असली गुनहगार हैं। पांडे ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार ने राज्य में सभी गलत कार्यो के लिए उन्हें निशाना बनाने की आदत बना ली है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share