राजा भोज महान की भूमि धार को शहर क़ाज़ी हसन अली ने बताया “बाबा कमाल” की जमीन.. बोला सुरेश चव्हाणके को नही आने देंगे यहाँ


इस से पहले सम्भल में भी एक इसी प्रकार के उन्मादी ने चुनौती देते हुए सुरेश चव्हाणके जी को सम्भल में न घुसने की धमकी दे डाली थी जबकि सुरेश चव्हाणके जी ने किसी भी प्रकार का एक भी शब्द गैर कानूनी न तो बोला था और न ही अपने से जुड़े किसी को भी ऐसा बोलने दिया था. उस समय सुरेश चव्हाणके जी ने कहा था की सम्भल की भूमि पौराणिक कथानुसार हिन्दुओ के देव कल्कि भगवान का जन्मस्थल होगा और इसी के चलते उन्हें वहां दर्शन का अधिकार है ..

लेकिन उस समय इतरत बावर नाम के एक उन्मादी ने बेहद गंभीर धमकियां दे कर के माहौल को खराब कर दिया था .. इस बार मध्य प्रदेश के धार जिले का शहर क़ाज़ी उनसे भी आगे निकलता दिख रहा है . सुरेश चव्हाणके जी द्वारा मध्य प्रदेश के धार जिले को अपने ही नहीं तमाम सनातनी हिन्दुओ के गौरवशाली पूर्वज राजा भोज की कर्मभूमि मान कर वहां जाने की बात कही तो अचानक ही शहर काजी हसन अली ने इसको न जाने क्यों आपत्तिजनक मान लिया और जहर उगलना शुरू कर दिया..

धार जिले के शहर क़ाज़ी हसन अली ने खुद को बहुत बड़ा और नामी क़ाज़ी बताते हुए कहा है की उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की है की सुरेश चव्हाणके को शहर में घुसने न दिया जाय . कई मुस्लिमो को ले कर जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपते हुए शहर क़ाज़ी ने कहा है की सुरेश चव्हाणके का वहां आयेंगे तो माहौल खराब होगा. उन्माद फ़ैलाने वाली बातो को करते हुए शहर क़ाज़ी की बातो से बेपरवाह सुरेश चव्हाणके जी ने राजा भोज को अपना पूर्वज बताया है और हर हाल में वहां जाने की बात कही है..


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share