Breaking News:

मातृ पितृ पूजन दिवस के गुजरात सरकार के एलान पर भड़की कांग्रेस… इस पवित्र परम्परा को बताया “फालतू का फतवा”


ये कईयों की समझ से बाहर है कि आखिरकार ऐसा क्या गलत है बच्चों में माता पिता की पूजा के संस्कार डालने में..राजनैतिक स्वार्थपूर्ति के लिए कब तक हिन्दू धर्म की रीतियों व संस्कारो पर कुठाराघात किया जाएगा.. भगवा को आतंकवाद बताने वाली कांग्रेस पार्टी ने एक बार फिर से एक बड़ी हिन्दू परम्परा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और गुजरात सरकार द्वारा वैलेंटाइन डे पर स्कूल में मातृ पितृ पूजन के आदेश के खिलाफ बयानबाजी शुरू कर दी है. कांग्रेस की गुजरात शाखा ने गुजरात मे सूरत शहर से स्कूलों के लिए निकले  के इस आदेश पर हंगामा शुरू कर दिया है और आम जनता से इस आदेश के खिलाफ अपना समर्थन करने की उम्मीद जताई है.

दिल्ली में भाजपा द्वारा खेले गए हिंदुत्व कार्ड के बाद भी उसकी बुरी तरह हार होने के बाद कांग्रेस ने अपने विरोध भाजपा के खिलाफ और मुखर कर दिया है। हद तो ये हुई कि हिंदुओं की इस पवित्र परम्परा को कांग्रेस ने फतवा घोषित कर दिया जो अमूमन मुस्लिमो में सुनाई देता है. गुजरात सरकार के सर्कुलर के मुताबिक, मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाने के लिए दिशा निर्देश भी दिए गए हैं। इसके अनुसार स्कूलों में पांच से दस दंपत्तियों को बुलाया जाएगा और उनके बच्चे फूल, टीका और मिठाई के साथ प्रार्थना करते हुए उनकी पूजा करेंगे।

विपक्षी कांग्रेस ने इस कदम की आलोचना करते हुए कहा कि जब राज्य में शिक्षा के मानकों में सुधार पर ध्यान देना चाहिए तो ऐसे में अधिकारी इस तरह के फालतू ‘फतवे’ जारी करने में व्यस्त हैं।कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोशी ने कहा कि हम अपने जीवन और संस्कृति में माता-पिता के महत्व को जानते हैं। पेरेंट्स पूजा दिवस मनाने के लिए स्कूलों को निर्देशित करना, राज्य में स्कूल प्रणाली की कमियों से ध्यान हटाने का एक तरीका है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share