पुलिस की वर्दी पहन कर घूम रहा था इमरान. बनवा रखा था पुलिस I कार्ड भी, लेकिन तभी उसका सामना हुआ असली पुलिस से, जिसके सेनापति हैं IPS आकाश तोमर


यूं ही नहीं उत्तर प्रदेश पुलिस को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल जी से सराहना मिली है, उसके लिए कई अधिकारियो का दिन रात का अथक प्रयास और सर्तकता के साथ चौकसी ही उत्तरदायी है. जिस प्रकार से अयोध्या मामले से भी पहले से अपराधियों पर कहर बन कर गिर रही उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपने असली रूप के दर्शन करवाए हैं , इसकी गिनती न सिर्फ भारत बल्कि विश्वस्तरीय पटल पर होने लगी है. उत्तर प्रदेश पुलिस को इस रूप में लाने में एक IPS अधिकारी का मुख्य श्रेय है जिनका नाम है आकाश तोमर.

आकाश तोमर वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के जनपद बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक हैं.. युवा के साथ ऊर्जावान व् प्रतिभाशाली इन पुलिस अधिकारी को अभी हाल में ही प्रशस्ति पत्र भी मिला है इनके सराहनीय कार्यों के चलते. राजधानी लखनऊ और आध्यात्मिक नगरी अयोध्या के बीच का सेतु कहे जाने वाले जिला बाराबंकी की कमान सम्भालने के बाद यहाँ पर आमूलचूल बदलाव देखने को मिल रहे हैं. उन्ही बदलाव का नतीजा है एक फर्जी पुलिस वाला बन कर घूम रहे इमरान की गिरफ्तारी.

ध्यान देने योग्य है कि न सिर्फ अपराधियों पर कड़ी नजर रखने वाली बाराबंकी पुलिस ने वर्दी वालों पर भी सतर्क निगाहें जमा रखी हैं और उन्ही सतर्क निगाहों में आ ही गया इमरान. घटना दिनाक 10.12.2019 की है जब बाराबंकी के थाना रामसनेही घाट के प्रभारी निरीक्षक आलोक मणि त्रिपाठी के निर्देशन में सब इंस्पेक्टर सुनील कुमार सिंह ने अन्य पुलिसकर्मियों के साथ इमरान पुत्र रहमत अली निवासी-निकट पुरानी पुलिस चौकी, लखपेड़ा बाग थाना कोतवाली नगर, जनपद- बाराबंकी को गिरफ्तार किया .

इमरान अली फर्जी पुलिस आरक्षी की वर्दी में दुकानों व ठेलों पर पालीथीन की चेकिंग कर अवैध वसूली कर रहा था जिसको दोपहर लगभग १.00 बजे गिरफ्तार किया गया. तलाशी लेने पर रहमत अली के पास से 03 फर्जी पुलिस परिचय पत्र , आधार कार्ड, डेबिट कार्ड एवं पुलिस नोटिस बुक व 01 मोबाइल फोन बरामद हुआ. अभियुक्त इमरान उपरोक्त का कृत्य कूटरचित पुलिस आरक्षी परिचय पत्र तैयार कर पुलिस वर्दी में अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए दुकानों पर पालीथीन की चेकिंग करते पाया गया।

उक्त अपराध भारतीय दण्ड विधान की धारा 419/420/467/468/471/171 अन्तर्गत दण्डनीय है जिसके चलते इमरान अली को हिरासत में लेकर मु.अ.सं. 553/19 पंजीकृत कर विधिक कार्यवाही की गई.. वर्तमान समय में पूरे देश में अवैध घुसपैठियों को चिन्हित करने और उनको निकालने का अभियान केन्द्रीय गृहमंत्रालय की तरफ से प्रतीक्षित है. ऐसे में बाराबंकी पुलिस द्वारा फर्जी पुलिसकर्मी बने इमरान अली को पहिचान लेना और त्वरित कार्यवाही करना निश्चित तौर पर SP आकाश तोमर की सतर्कता का प्रमाण है.

रिपोर्ट –

राहुल पाण्डेय 

सुदर्शन न्यूज़ – नॉएडा मुख्यालय 

मो०- 9598805228 

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share