Breaking News:

फारुख व उमर अब्दुल्ला की जल्द हो सकती है रिहाई.. शर्तों के साथ मोदी सरकार कर रही है चर्चा


जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के समय से ही नजरबंद जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला तथा उनके बेटे उमर अब्दुल्ला जल्द ही रिहा सकते हैं. सूत्रों के हवाले से जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक़, केंद्र सरकार तथा अब्दुल्ला के बीच रिहाई के लिए एक डील हो रही है. समझौते के अनुसार, जम्मू-कश्मीर के दोनों प्रमुख नेताओं से सक्रिय राजनीति से कुछ दिन दूर रहने का वादा लेने के बाद ही उन्हें नजरबंदी से मुक्त किया जाएगा.

बता दें कि हाल ही में केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर के 26 लोगों से PSA हटा चुकी है. अब जानकारी मिली है कि सरकार पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला की रिहाई के लिए एक समझौते पर काम कर रही है. इस समझौते के अनुसार, जम्मू-कश्मीर के दोनों प्रमुख नेताओं को सक्रिय राजनीति से कुछ दिन दूर रहने का वादा लिए जाने के बाद ही नजरबंदी से मुक्त किया जाएगा. यह भी कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं को राजनीति से दूर रखने के लिए कुछ दिन ब्रिटेन भेजा जा सकता है.

सरकार के सूत्रों का कहना है कि ऐसा एक प्रस्ताव को तैयार किया जा रहा है जिसके बाद इस पर बातचीत के लिए फारूक और उमर अब्दुल्ला से संपर्क साधा जा सकता है. सरकार के एक उच्च सूत्रों के मुताबिक कि एक विचार यह भी है कि दोनों को कुछ समय के लिए ब्रिटेन भेजने का रास्ता निकाला जाए. सरकारी सूत्रों का कहना है कि दोनों नेता देश से बाहर रहते हुए जम्मू-कश्मीर में मौजूद अपने पार्टी एजेंट्स की मदद से भी मामलों को देख सकते हैं. ऐसे में ये भी तय किया जा रहा है कि दोनों ऐसा नहीं करेंगे.

बता दें कि पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाए जाने और केंद्र शासित प्रदेश में तब्दील किए जाने के बाद से ही नैशनल कांफ्रेंस के नेता फारू अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला को नजरबंद कर दिया गया था. पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती भी इस समय नजरबन्द हैं. उनकी रिहाई कब होगी, इस बारे में अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है. लेकिन कहा जा रहा है कि फारुख तथा उमर अब्दुल्ला जल्द रिहा हो सकते हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share