जब न्याय का पहिया चलता है तो दायरे में सब आते हैं, जैसे कि अब पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा के पोते भी


कहा जाता है कि जब न्याय का पहिया अपनी धुरी पर घूमता है तो राजा हो या फ़कीर.. सबको अपने कर्मों का हिसाब देने समय के उस चक्र में आना पड़ता है. भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा के पोते सूरज रेवन्ना ये सोचते थे कि उनके देश के पीएम रहे हैं तो वह कुछ भी गलत कर जाएँ, कानून उनको कुछ नहीं कहेगा. लेकिन सूरज रेवन्ना गलत थे तथा अब वह कानून के शिकंजे में आ चुके हैं. बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के पोते सूरज रेवन्ना और 150 अन्य पर हत्या की कोशिश एवं दंगा करने के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया गया है. ये जानकारी खुद पुलिस ने दी है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक़, हासन जिले के नंबीहल्ली में मंगलवार रात कथित तौर पर यह घटना हुई थी. कर्नाटक के पूर्व मंत्री एच डी रेवन्ना के बेटे सूरज रेवन्ना पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने बेंगलुरु से भाजपा के एक पार्षद आनंद होसुर सहित भगवा पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं के साथ मंगलवार रात मारपीट की. भाजपा कार्यकर्ता शिवानंद द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर चन्नारायपाटना ग्रामीण पुलिस थाने ने सूरज और अन्य के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 324 और 147 सहित अन्य धाराओं के तहत एक मामला दर्ज किया.

ये धाराएं हत्या की कोशिश, गंभीर रूप से घायल करना और गैर कानूनन जमा होने तथा दंगा करने से जुड़ी हैं. वहीं अपने बेटे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किए जाने पर एचडी रेवन्ना ने कहा कि उनके बेटे मौके पर मौजूद नहीं थे और भाजपा पर झूठी शिकायत के साथ मामला दर्ज कराने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा है कि बीजेपी बदले की भावना से कार्य कर रही है तथा उनके बेटे को प्रताड़ित कर रही है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share