अब्बा पाकिस्तानी थे, रहते ब्रिटेन में थे, विरोध करते थे भारत के प्रधानमन्त्री का फिर भी नागरिकता मिली थी भारत की जो अब रद्द हुई


न जाने धर्मनिरपेक्षता के वो कौन से सिद्धांत थे जो कभी रोहिंग्या और बंगलादेशियो को भारत में बसाने की पैरवी करते हैं तो कभी आतंकियों के लिए अदालत को आधी रात में खुलवा दिया करते हैं. इतना ही नहीं अपने देश और अपने देश के मुखिया तक को अपमानित करने वालों को इसी देश की नागरिकता उस हालत में दे दी जाती थी जबकि अब्बा पाकिस्तानी हों और खुद ब्रिटेन में रहते हो .. बिना ये सोचे या समझे कि भारत के लिए उनका योगदान था क्या .. फ़िलहाल भूल सुधार मोदी सरकार में हुई है..

ध्यान देने योग्य है की इन महानुभाव का नाम है आतिश तासीर जो कथित रूप से एक पत्रकार हैं. पाकिस्तान को खुश करने के लिए इन्होने ही प्रधानमन्त्री मोदी के लिए “डिवाइडर इन चीफ” का टाइटल दिया था जो न दुनिया में स्वीकार किया गया और न ही देश में.. हालांकि अब इन्हें वो प्रतिफल मिला जो सच में न्यायोचित ही कहा जायेगा . इनके अब्बा पाकिस्तानी हैं , ये खुद ब्रिटेन में रहते हैं और नागरिकता भारत की ले रखे थे. क्यों और किस आधार पर ये अनुसन्धान का विषय है..

अब भारत सरकार गृहमंत्रालय ने इनकी नागरिकता क रद्द कर दिया है जिस पर इन्होने खुद ट्विट किया है..इनकी नागरिकता को रद्द करने का एक बेहद मजबूत आधार और कारण देते हुए गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि नागरिकता अधिनियम 1955 के अनुसार, तासीर ओसीआई कार्ड के लिए अयोग्य हो गए हैं क्योंकि ओसीआई कार्ड किसी ऐसे व्यक्ति को जारी नहीं किया जाता है जिसके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तानी हों और उन्होंने यह बात छिपा कर रखी।

तासीर भारत की उन महिला पत्रकार के बेटे हैं जिनका नाम तवलीन सिंह है और उन्होंने निकाह पाकिस्तान के नेता सलमान तासीर से किया था जो अब दुनिया में नहीं हैं.. तवलीन सिंह के भाजपा , मोदी और हिंदुत्व पर लेख जगजाहिर है .. गृहमंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि तासीर (38) ने स्पष्ट रूप से बहुत बुनियादी जरूरतों को पूरा नहीं किया और जानकारी को छुपाया है। नागरिकता अधिनियम के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति ने धोखे से, फर्जीवाड़ा कर या तथ्य छुपा कर ओसीआई कार्ड हासिल किया है तो ओसीआई कार्ड धारक के रूप में उसका पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा और उसे काली सूची में डाल दिया जाएगा। साथ ही, भविष्य में उसके भारत में प्रवेश करने पर भी रोक लग जाएगी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...