जर्मनी में एक समूह अंदर ही अन्दर जो कर रहा है तैयारी उसका राज़ सामने आने के बाद पूरे यूरोप में सनसनी. क्या आने वाले खतरे को भांप गया जर्मनी ?


इसको क्या आने वाले समय की तैयारी माना जाय या किसी खतरे को भांप गई है जर्मनी की जनता ? पिछले कुछ समय से जिस प्रकार से जर्मनी में एक के बाद एक आतंकी हमले हुए उसके बाद जर्मनी की जनता ने अपने तौर तरीको को आने वाले समय के हिसाब से ढालना शुरू कर दिया है. इस से पहले फ़्रांस और ब्रिटेन में एक के बाद एक आतंकी हमले में जिस प्रकार से सीरियाई और ईराकी घुसपैठी मुस्लिम सामने आये थे, वहां कई बार मुस्लिमों पर हमले हुए हैं.

लेकिन अब जो जर्मनी में हो रहा है वो एक शसक्त सैन्य तैयारी के रूप में देखा जा रहा है. फ़िलहाल आंतरिक रिपोर्ट में जो कुछ भी सामने आ रहा है उस से वहां के मुस्लिम समर्थको ने अभी से हंगामा शुरू कर दिया है.. फ़िलहाल सूत्रों के माध्यम से और बाकी अन्य संचार माध्यमों ने सूचना दी है कि जर्मनी में दक्षिणपंथी गोपनीय ढंग से आम लोगों को सैन्य प्रशिश्रण दे रहे हैं. जर्मनी में दक्षिणीपंथी, आम लोगों को छिपकर मिलिट्री ट्रेनिंग दे रहे हैं। गार्डियन समाचारपत्र ने शनिवार को जर्मन के टेलिविज़न चैनेल एआरडी के हवाले से रिपोर्ट दी है कि दक्षिणी जर्मनी के मासबाक नगर में ग़ैर क़ानूनी ढंग से आम लोगों को सैन्य प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

एआरडी चैनेल पर दिखाया गया है कि कुछ लोगों का एक गुट सैनिकों की ड्रेस में एक क्षेत्र में गतिविधियां कर रहे हैं। यूनिटर नामके इस गुट के लोग, सैनिकों की एक खाली पड़ी छावनी में छिपकर लोगों को सैन्य प्रशिक्षण दे रहे हैं। इस गुट के प्रमुख का कहना है कि सैन्य प्रशिक्षण देने का उद्देश्य, जर्मनी की व्यवस्था के धराशाई होने की स्थिति में समानांतर स्ट्रक्चर तैयार करना है। यह गुट जर्मन चांसलर मर्केल द्वारा सन 2015 में पलायनकर्ताओं को स्वीकार करने के बाद इस गुट की गतिविधियां बहुत तेज़ी से बढ़ी हैं. ज्ञात रहे कि जर्मनी में दक्षिणपंथा का ख़तरा काफ़ी पहले से सिर उठा चुका है जो इस देश की सेना तक पहुंच चुका है। इसी बीच जर्मनी सहित यूरोप में उभरते दक्षिणपंथ का बड़े पैमाने पर विरोध किया जा रहा है।

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share