Breaking News:

मुश्ताक और राहिल जब पुलिस में थे तब उन्हें सेक्यूलर घोषित करते थे महान राष्ट्रभक्त.. लेकिन अब वो कुछ और ही हैं


राहिल तथा मुश्ताक.. एक समय जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवान थे. उस समय हर कोई इनको महान राष्ट्रभक्त कहता था. लेकिन अब ये लोग देश के दुश्मन बन चुके हैं. जिन मुश्ताक तथा राहिल को सेक्यूलरों द्वारा महान राष्ट्रभक्त बताया जा रहा था वो अब आतंकी बन चुके हैं. खबर के मुताबिक़, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मुश्ताक और राहिल को शोपियाँ और पुलवामा के सेब के बागों में हाल में हुई हत्याओं में संलिप्त माना है. दोनों अधिकारियों ने विशेष पुलिस बल छोड़ कर 2017 में इस्लामिक आतंकवादी संगठन हिज़बुल मुजाहिदीन में शामिल हो गए थे.

मीडिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़,  पुलिस ने बताया कि यही मुश्ताक था, जो पिछले कुछ महीनों से, ओवरग्राउंड हिजबुल कार्यकर्ताओं को निर्देश दे रहा था कि वे दुकानदारों को पोस्टर लगाए व शोपियां में पैम्फलेट वितरित करें. इसके अलावा सेब उत्पादकों को नेफेड की फल ख़रीद प्रक्रिया का बहिष्कार करने के लिए कहे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुश्ताक इन पोस्टर्स पर हस्ताक्षर करने के लिए एक और नाम – ‘बाबर आज़म’ का इस्तेमाल कर रहा है. पंजाब के एक सेब व्यापारी, एक ट्रक ड्राइवर और एक मज़दूर को इन आतंकवादियों ने मार डाला. आतंकवादियों ने कम से कम चार खेतों में आग लगा दी.

जम्मू कश्मीर पुलिस के अधिकारी ने बताया कि राहिल तथा मुश्ताक ने 2018-2019 में कई सोशल मीडिया समूहों पर एसपीओ को आतंकवादी संगठनों में शामिल होने के लिए एक ‘प्रसारण सेवा’ का संचालन किया. जवाब न देने पर ये दोनों उन्हें झटके से ख़त्म करने लगे. उन्होंने बताया कि दो पूर्व SPO(राहिल व मुश्ताक) जो अब आतंकवादी बन गए वो पुलवामा और अनंतनाग के बीच 60 किलोमीटर के क्षेत्र में काम कर रहे हैं और हाल ही में वो 11 केसर व्यापारियों से मिले थे. आतंकवादियों ने उन्हें धमकी दी थी कि वे किसी भी सरकारी एजेंसी को अपनी उपज की आपूर्ति न करें.

मुश्ताक, जो शोपियांँ में नाज़नीपोरा का निवासी है, उसके पास चार एके 47 होने का संदेह है, जो उसने 2017 में पुलिस से चुराई थी. एक अन्य आतंकवादी मैग्रे शोपियाँ और पुलवामा में स्थानीय लड़कों के माध्यम से व्यापारियों को ‘धमकी भरे संदेश’ भेज रहा है. अधिकारी ने बाताया, “मुश्ताक ने बडगाम में अपनी पोस्टिंग के दौरान 2017 में चार एके 47 छीने थे. वह शोपियाँ का हिजबुल मुजाहिदीन ज़िला कमांडर बन गया है और अन्य आतंकवादियों को हथियारों की आपूर्ति कर रहा है. हम अन्य समूह के सदस्यों की पहचान करने की प्रक्रिया में हैं.”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share