शाहीन बाग़ मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नियुक्त किया था पूर्व IAS वजाहत हबीबुल्ला को वार्ताकार.. लेकिन उनके हिसाब से दोषी कब्जा करने वाले प्रदर्शनकारी नहीं.. जानिये किसको दिया दोष ? - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

शाहीन बाग़ मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नियुक्त किया था पूर्व IAS वजाहत हबीबुल्ला को वार्ताकार.. लेकिन उनके हिसाब से दोषी कब्जा करने वाले प्रदर्शनकारी नहीं.. जानिये किसको दिया दोष ?


इनसे उम्मीद की जा रही थी कि ये सच को सामने रखेंगे और निष्पक्षता से देश को ये जानने देंगे कि आखिरकार क्यों एक लम्बे समय से सडक कब्जा कर के रखी गई थी. इन्होने जो जवाब दिया है वो हर किसी को हैरान कर देने वाला है. फिलहाल पुलिस का विरोध भारत में एक आम बात मानी गई है जो इस बार भी हुआ है. इस बार सीधे सीधे ये आरोप लगा दिया गया है कि शाहीन बाग़ में गलती पुलिस की है न कि प्रदर्शनकारियों की.

सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वजाहत हबीबुल्ला ने सड़क बंद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा हैं कि  दिल्ली पुलिस ने बेवजह रास्ता बंद किया, जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हुई. हैरानी की बात ये  है कि ये बातें तब कही गई जब दुनिया भर ने वहां से मीडिया वालों को भगाए जाते और सडको पर बैरिकेट के पीछे गो बैक के नारे देखे. कुछ लोगों को बंधक बनाने की भी खबरें आई थीं जिन्हें बाद में पुलिस ने बचाया था.

कोरोना से पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

पुलिस पर ये आरोप लगाने वाले वजाहत हबीबु्ल्ला पूर्व आईएएस अधिकारी हैं और प्रमुख सूचना आयुक्त भी रह चुके हैं. हबीबुल्ला राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के भी अध्यक्ष रह चुके हैं.  सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वजाहत हबीबुल्ला ने सड़क बंद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा हैं कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है. पुलिस ने 5 जगहों पर रोड ब्लॉक किया है

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share