एकतरफा बढ़ती आबादी के खतरे को बहुत पहले भाँप गए थे ठाकरे जी. 2007 की रैली में उन्होंने कहा था “हरा जहर”


एकतरफा बढ़ रही आबादी के खतरे को जिस प्रकार से राष्ट्रनिर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी लगातार देश ही नही बल्कि विदेशों के कोने कोने में बता रहे हैं उसको इस से पहले भी कई महान व्यक्तियों ने प्रमुखता के साथ न सिर्फ उठाया है बल्कि उस पर प्रभावी नियंत्रण की मांग व जरूरत पर बल भी दिया है ..निश्चित तौर पर हिंदुस्थान में हिंदुओं की तेजी से कम हो रही आबादी एक ऐसे चिंता का विषय है जिसका समाधान सिर्फ और सिर्फ एक कठोर जनसँख्या नियंत्रण कानून को लागू करवा कर ही किया जा सकता है ..

इसी के चलते ही श्री सुरेश चव्हाणके जी ने समूचे भारत की परिक्रमा की थी और पूरे देश मे उसके बाद ही जनप्रतिनिधियों के साथ जनता में भी इस कानून के लिए चेतना आई और अब ये मांग राष्ट्रव्यापी आंदोलन बनती जा रही है ..फिलहाल चर्चा हो रही है हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब ठाकरे जी की..महराष्ट्र में सोते हिंदुओं को झकझोर कर जगाने वाले ठाकरे जी धीरे धीरे बन गए थे पूरी दुनिया के हिंदुओं के आदर्श.. तुष्टीकरण की आंधी में भगवा वस्त्र लपेट कर और हाथों में रुद्राक्ष ले कर उन्होंने जो कुछ भी किया वो शायद ही कोई और कर पाए ..

हिंदुओं की चिंता करते हुए ही उन्होंने अपने प्राण त्यागे थे .. उन्हें एहसास था हिंदुओं पर भविष्य में आने वाली हर आफत का और हिन्दू समाज के खिलाफ रची जा रही तमाम साजिशों का भी ..इसीलिए उनके तमाम बयान घोषित कर दिए गए थे विवादित ..कुछ ऐसे बयान भी रहे हैं जिन पर उनको कानूनी कार्यवाही का भी सामना करना पड़ा था लेकिन वो जरा सा भी नही झुके ..यहां तक कि उनकी हिंदुत्व की छवि के चलते ही सोनिया गांधी प्रणव मुखर्जी को साफ आदेश देती रहीं की वो उन से न मिलें.

वर्ष 2007 में, शिवसेना रैली के दौरान उन्होंने मुस्लिमो को “हरा जहर” के रूप में परिभाषा दी, जिसके चलते उन्हें गिरफ्तार भी किया गया। यद्द्पि आज कुछ लोगो द्वारा पाकिस्तान के पक्ष में नारे लगाना और अपने ही सैनिको पर पत्थर मारना अभिव्यक्ति की आज़ादी के रूप में गिना जाता है.. उन्होंने तेजी से बढ़ते उन्मादियों से देश के राष्ट्रभक्तों को सतर्क करते हुए कहा था कि अगर इन्हें नही रोका गया तो ये पहले मुंबई को, फिर महाराष्ट्र को और बाद में देश तक को निगल जायेगे..जिसका पाप चुप बैठे लोगों को लगेगा ..

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share