सेकुलर हिन्दुओं ने आगे बढ़ कर बनवा दी थी मस्जिद.. लेकिन जब उनका मन्दिर बनने की बारी आई तब तक खत्म हो चुकी थी धर्मनिरपेक्षता


बहुत ख़ुशी से उन्होंने आगे बढ़ कर अपने भाईचारे का सबूत देते हुए मस्जिद के निर्माण में सहयोग किया था . कुछ ने श्रम के साथ और कुछ ने आर्थिक रूप से आगे बढ़ कर मदद की थी . यहां तक कि उस समय जिस भी हिन्दू संगठन ने इसका विरोध किया था उनको भी साम्प्रदायिक बताते हुए उनको वहां आने नहीं दिया गया था . उन्होंने ये भी एलान किया था कि इस से इलाके में प्रेम और भाईचारा बढ़ेगा .. लेकिन अब जो कुछ भी वहां पर हुआ वो किसी के भी रोंगटे खड़े कर देने के लिए काफी है .

ये मामला उत्तर प्रदेश के जिला पीलीभीत का है . पीलीभीत के वीसलपुर थाना क्षेत्र के नवदिया सितारगंज गांव में उस वक्त तनाव का महौल उत्पन्न हो गया जव मुस्लिम समुदाय ने हिन्दुओं की आस्था को चोट पहुंचाते हुए मन्दिर निर्माण कार्य में विघ्न डालते हुए निर्माण का विरोध किया . बड़ी संख्या में इक्कठा होकर मुस्लिम समुदाय के लोग निर्माण स्थल पर पहुंचे और निर्माण को अबैध वताते हुए विरोध करने लगे देखते ही देखते दोनों समुदाय के लोगों में वातचीत होने लगी तभी मामला बिगड़ता देख किसी ने पुलिस को सूचना दी..

जिसके वाद वीसलपुर पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामले को लेकर दोनों पक्षों की मीटिग कराई तथा आचार संहिता खत्म होने तक यथा स्थिति बनये रखने की अपील की …गांव वालों ने वताया की जव मुस्लिम लोगों ने मस्जिद निर्माण कराया तो हम लोगों ने कोई विरोध नही किया जबकि आगे बढ़ कर मदद ही की थी पर जब हम लोगों ने मन्दिर निर्माण कराने के लिए निर्माण कार्य करवाना शुरु किया तो उक्त लोगों ने विरोध कर निर्माण कार्य वंद करा दिया गांव में सालों से गांव वाले धार्मिक स्थल पर पूजा पाठ करते चले आ रहे हैं..

परंतु धार्मिक स्थल मुस्लिम वस्ती में होने के कारण वहां पर मुस्लिम लोग गंदगी फैलाते हैं जिसकी रोकधाम के लिए हिन्दू लोग धार्मिक स्थल की वाउंड्री वाल वनाकर उसकी सुरक्षा करना चाहते हैं पर मुस्लिम समुदाय के लोग कोई भी कार्य होने नही दे रहे हैं गांव वालों ने शासन प्रशासन से मांग की है कि उनकी धार्मिक भावनाओं की रक्षा की जाये और धार्मिक स्थल पर वाउंड्री वाल के निर्माण की परमीशन दी जाये लोगों ने कहा की आखिर मुसलमानों को धार्मिक स्थल पर निर्माण से ऐतराज क्यों है जव हिन्दुओं को उनके धार्मिक कार्यों व धार्मिक स्थलों से दिक्कत नही तो इन लोगों को क्यों है???


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...