धर्मनिरपेक्ष थे माता पिता इसलिए बच्चे के नाम के आगे धर्म नही लिखा. लेकिन स्कूल का नाम था सेंट मेरिज और ये हुआ उनके साथ - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

धर्मनिरपेक्ष थे माता पिता इसलिए बच्चे के नाम के आगे धर्म नही लिखा. लेकिन स्कूल का नाम था सेंट मेरिज और ये हुआ उनके साथ


धर्मनिरपेक्षता यकीनन भारत के हिन्दुओं में कूट कूट कर भरी हुई है. इतिहास में उन्होंने दुनिया के तमाम मजहबी और उन्माद भरे आक्रमण झेले हैं लेकिन उसके बाद भी उन्होंने धर्मनिरपेक्षता का दामन नहीं छोड़ा. कुछ सेक्युलर तो इतने मासूम और भोले हैं कि उनको अपनी ही तरह बाकी समाज के अन्य सभी वर्ग भी सेक्युलर नजर आते थे. लेकिन कई बार इसका नकारात्मक असर देखने को भी मिल जाता है.

ठीक वैसे ही हुआ केरल के एक स्कूल में. केरल में वामपंथी सरकार सत्ता में है और उस वामपंथ का सबसे ज्यादा असर वहां के हिन्दुओं की सोच पर पड़ा है. धर्म आदि से दूरी बनाने का चलन वामपंथी वर्ग में सबसे ज्यादा है और इस से प्रभावित हो कर एक माता पिता अपने बच्चे का नाम लिखवाने एक स्कूल में गये जिसका नाम था सेंट मेरिज.. उन्होंने स्कूल एडमिशन का फार्म ले कर उसको भर के जमा कर दिया.

कोरोना से पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

बाद में उनके बच्चे का फार्म अस्वीकार कर दिया गया तो उन्होंने कारण पूछा. उन्हें बताया गया कि फ़ार्म अस्वीकार करने की मुख्य वजह बच्चे के फार्म में धर्म का कालम भरा न होना है. बच्चे के माता पिता ने खुद को सेक्युलर बताते हुए धर्म आदि से दूर रहने की बात कही  और अपने बच्चे को भी वैसी राह पर ले जाने के लिए फार्म में धर्म का कालम छोड़ देने की वजह बताई तो भी स्कूल ने अपने रुख में बदलाव नहीं किया . सबसे खास बात ये है कि ये स्कूल सरकारी सहायता से संचलित हो रहा है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share