कांग्रेस सरकार के मंत्री ने अपनी सरकार को गिराने की साजिश कर आरोप ऐसे व्यक्ति पर लगाया है जो भाजपा का नहीं है

भारतीय जनता पार्टी जिस प्रकार से कांग्रेस मुक्त भारत का अभियान ले कर आगे बढ़ी थी उसमे उसको सबसे बड़े झटके 3 जगहों पर लगे थे और वो जगह हैं छत्तीसगढ़ , मध्यप्रदेश और राजस्थान.. कर्नाटक में तो भारतीय जनता पार्टी ने अपने झटको से उबरने की प्रक्रिया पूरी कर ली है.. अब मध्य प्रदेश से जो खबर आ रही है उसको सुन कर कोई भी एक बार हैरत में पड़ जाएगा कि क्या मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी अब शिकार हो जायेगी अपने ही लोगों द्वारा रची गई साजिश का..

एक और इस्लामिक मुल्क की सीमाओं पर इजरायल बढ़ा रहा है अपनी सेना.. क्या अब एक नए देश में दिखेगी तबाही ?

ध्यान देने योग्य है कि मध्य प्रदेश में दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर से हिन्दुओ के खिलाफ जो बयान दिया है उस से न सिर्फ हिन्दू समाज आक्रोशित हो गया है बल्कि खुद कांग्रेस के अंदर के मंत्रियों ने इस हरकत को सरकार को गिराने तक की साजिश कह डाली है.. इसी मामले में सोनिया गांधी तक चिट्ठी लिख डाली गई है और कहा गया है कि दिग्विजय सिंह ने सरकार को अस्थिर करने की साजिश रच डाली है और उनको ऐसा करने से फ़ौरन रोका जाय.. इस मामले में अब दिल्ली के दखल की मांग की गई है .

राजनीति की भगवा सुनामी. कांग्रेस का मुस्लिम विधायक शामिल हुआ शिवसेना में, हाथ में थामा भगवा ध्वज

असल में अपने विवादित बयानों से कांग्रेस के लिए आफत बनते जा रहे दिग्विजय सिंह ने कुछ ही समय पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस के तमाम मंत्रियों को एक पत्र लिखा था और इस बात की जानकारी मांगी थी कि जनवरी और अगस्त माह के बीच उन्होंने कई काम और ट्रांसफर की अपील की थी, उसकी स्थिति से अवगत कराया जाए। इसी पत्र का हवाला देते हुए सिंघरा ने दिग्विजय सिंह को निशाने पर लिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता सरकार की छवि को खराब कर रहे हैं, उन्हें इस तरह के पत्र लिखने की कोई जरूरत नहीं है, वह सीधे तौर पर बिना किसी परेशान के मंत्रियों से बात कर सकते हैं।

एक और इस्लामिक मुल्क की सीमाओं पर इजरायल बढ़ा रहा है अपनी सेना.. क्या अब एक नए देश में दिखेगी तबाही ?

सिंघरा ने पत्र में लिखा है कि मंत्री मुख्यमंत्री के प्रति जवाबदेय होते हैं। दिग्विजय सिंह राज्यसभा सदस्य हैं। वह मंत्रियों को पत्र लिखकर ट्रांसफर और पोस्टिंग की जानकारी मांग रहे हैं, जोकि सही नहीं है। इसकी वजह से अन्य सांसद भी इस तरह के पत्र लिखेंगे। अगर यह परंपरा शुरू हो जाएगी तो आखिर मंत्री अपना काम कैसे करेंगे और जनहित की योजनाओं को कैसे लागू किया जाएगा। उमंग सिंघर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है, जिसमे उन्होंने दिग्विजय सिंह पर यह गंभीर आरोप लगाया है। बता दें कि उमंग सिंघर की चाची दिग्विजय सिंह सरकार में उप मुख्यमंत्री रह चुकी हैं।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

Share This Post