मौत की धमकियां मिल रही हैं आबिद अली की बेटी को क्योकि उसने अपना दूल्हा चुन लिया अनुज को. अब खामोश हैं प्यार पर महीनों बहस करने वाले वो तमाम चेहरे


कुछ समय पहले की घटना सबको याद होगी जब साक्षी नाम की एक लडकी का नाम ले कर भारत की मीडिया और बुद्धिजीवी वर्ग ने एक या दो दिन नहीं बल्कि हफ्तों बहस की थी. उस समय एक लाचार पिता को जिस प्रकार से समाज ही नहीं बल्कि दुनिया में बदनाम किया गया था वो सबने देखा था, तब प्यार सबसे बड़ा और न जाने क्या क्या तर्क दे कर उस पिता को दोषी बताया गया था जिसने पहले दिन से ही कह दिया था कि उसकी बेटी बालिग है और उसने जो फैसला लिया वो उसके लिए स्वतंत्र थी..

लेकिन अचानक ही न जाने क्यों और कैसे प्यार की परिभाषा देने वाले वो तमाम नाम अपने रुख में बदलाव ले आये हैं क्योकि इस बार मामला कुछ ऐसा दिखाई दे रहा है जो शायद उनके हिसाब से उनके स्वघोषित सेकुलरिज्म के पैमाने पर फिट नही बैठ रहा है. इस बार मामला मेरठ से है और इसमें पिता का नाम है आबिद अली, जिनकी बालिग बेटी ने पूरा सोच समझ कर अपने जीवन साथी के रूप में अनुज को जैसे चुना वैसे ही उसके व् उनके पति को मौत के घाट उतार देने की धमकियां मिलने लगी.

मेरठ के दौराला के शाहपुर जदीद गांव निवासी आबिद अली की बेटी 14 अप्रैल को घर से चली गई थी। जिसके बाद थाना दौराला में मुकदमा दर्ज कराया गया था। युवती के मुताबिक, 22 अप्रैल को उसने गांव के ही अनुजपाल से आर्य समाज मंदिर देवबंद में धर्म परिवर्तन कर शादी कर ली। इसके बाद उसने न्यायालय में पेश होकर अपने बयान भी दर्ज करा दिए। न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने युवती को उसके पति के साथ भेज दिया। तब से दोनों किराए के मकान में रह रहे थे। शनिवार को युगल एसएसपी दफ्तर पहुंचा। लडकी ने बताया कि उसके मायके के लोग जान से मारने की कोशिश कर रहे हैं। उसने कहा कि वह अपने पति के साथ गांव में उसके घर जाना चाहती है, लेकिन गांव में घुसने पर जान का खतरा है। एसपी क्राइम रामअर्ज़ ने दौराला थाना पुलिस को दंपति को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share