हुतात्मा कोठारी बंधु के परिवार से आया वो संदेश जिसने रुला दिया श्रीराम भक्तों को


जब जब अयोध्या श्रीराम मंदिर आन्दोलन की बात होगी, तब तब इस अन्दोलन में वीरगति को प्राप्त हुए कोठारी बंधुओं की चर्चा जरूर होगी. जब भी श्रीराम जन्मभूमि आन्दोलन का इतिहास लिखा जाएगा, तो उसमें कोठारी बंधुओं का नाम स्वर्णिम अक्षरों में अंकित होगा. आज जब अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के सभी कांटे दूर हो गये हैं तब हर रामभक्त कोठारी बंधुओं को उनके बलिदान के लिए नम आँखों से नमन कर रहा है.

जब सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया तो देश के साथ कोठारी बंधुओं के परिजन भी मुस्कुरा उठे. हालाँकि आज जब अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के पक्ष में फैसला आया है, उस समय न तो कोठारी बंधु इस दुनिया में मौजूद हैं और न ही उनके माता पिता. अयोध्या मामले पर सुप्रीम फैसले के बाद राम जन्मभूमि आन्दोलन के बलिदानी कोठारी बंधु के परिवार से वो सन्देश आया है, जिसने पूरे देश को रुला दिया.

इस बारे में एक न्यूज़ वेबसाइट पर एक लेख लिखा है, जिसे हम यहां प्रेषित कर रहे हैं–

अगर आपके राम कोठारी आज जिंदा होते तो बीकानेर में अपना कारोबार कर रहे होते या फिर कोलकाता में पिता का व्यवसाय संभाल रहे होते। लेकिन नियति को कुछ और ही मंज़ूर था। राम मंदिर के लिए 1990 में हुई कारसेवा में शामिल होने को राम कोलकाता से अपने छोटे भाई शरद के साथ अयोध्या पहुंचे थे, जहां दोनों भाई चार दिन बाद हुई गोलीबारी का शिकार हो गए। कोठारी बंधुओं की इकलौती बहन पूर्णिमा कोठारी अयोध्या पर उच्चतम न्यायालय के फैसले से काफी खुश हैं। मगर वह अपना दुख छिपाना भी नहीं चाहतीं। कोलकाता से ‘भाषा’ से फोन पर बातचीत में पूर्णिमा ने कहा “मैं आज भी अपने भाइयों के उस बलिदान को जी रही हूं।”कोलकाता निवासी राम कोठारी और शरद कोठारी ने 30 अक्टूबर 1990 को अयोध्या में तत्कालीन बाबरी मस्जिद के ढांचे पर कथित तौर पर भगवा झंडा फहराया था और दो नवंबर 1990 को अयोध्या में पुलिस की गोली से उनकी मौत हुई।उनके अयोध्या पहुंचने से ठीक पहले वरिष्ठ भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी की रथ यात्रा को बिहार के समस्तीपुर में रोककर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। अयोध्या में कारसेवकों के लिए भी हालत मुश्किल होने लगे थे। उस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव थे।कोठारी बंधु 30 अक्टूबर 1990 को अयोध्या पहुंचे और उसी शाम सैकड़ों कारसेवकों के साथ बाबरी मस्जिद पर भगवा झंड़ा फहराने चल पड़े। बाबरी मस्जिद पर भगवा झंड़ा फहराने की जो तस्वीरें मीडिया में आईं, उनमें राम कोठारी गुंबद के सबसे ऊपर हाथ में भगवा झंडा थामे खड़े थे और शरद कोठारी उनके बगल में खड़े थे। मीडिया के अनुसार, इसके बाद दो नवंबर 1990 को कार्तिक पूर्णिमा के दिन कारसेवक एक बार फिर बाबरी मस्जिद की ओर कूच करने के लिए हनुमान गढ़ी मंदिर के पास जमा हुए। इस बार पुलिस ने उन्हें काबू में करने के लिए गोली चलाई। प्रशासन के आंकड़ों के मुताबिक हनुमान गढ़ी के पास हुई इस गोलीबारी में 16 लोग मारे गए, जिसमें राम और शरद कोठारी भी शामिल थे।पूर्णिमा ने बताया, “मैं मानती हूं कि जब किसी परिवार से कोई बलिदान होता है, तो उस बलिदान को पूरा परिवार जीता है। मैंने अपनी आंखों से यही देखा है कि मेरे माता-पिता ने अपने बच्चों के बलिदान को अपनी सारी उम्र जिया। मेरी मां जब गुजरी, तो मेरे भाइयों को गुजरे 25 साल हो गए थे, लेकिन वह लगातार उस बलिदान को जी रही थीं।” उनके पिता का 2002 में और मां का 2016 में देहांत हुआ।कोठारी बंधुओं का परिवार मूल रूप से बीकानेर का रहने वाला था और दोनों भाइयों को बीकानेर से बहुत लगाव था। इस बारे में पूर्णिमा ने बताया, “पिता जी ने बीकानेर में सॉफ्ट ड्रिंक की छोटी फैक्टरी खोली थी। दोनों भाई आपस में बहस करते थे कि तुम कलकत्ता रहना, मैं बीकानेर जाऊंगा। दोनों को बीकानेर बहुत पसंद था। दोनों बीकानेर में जाकर रहना चाहते थे।”व्यावसायी समाज से संबंध रखने के कारण दोनों भाइयों को नौकरी करने की बहुत चाह नहीं थी और राम कोठारी ने तो कोलकाता में पिता के लोहे के कारोबार में हाथ बंटाना भी शुरू कर दिया था। पूर्णिमा ने बताया, “ये तय था कि वह बिजनेस ही करेंगे।”उन्होंने बताया कि दोनों भाई बहुत छोटी उम्र से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े गए थे और जिस समय अयोध्या में उनकी मौत हुई उस समय राम 22 साल के और शरद 20 साल के थे। पूर्णिमा शरद से एक साल छोटी हैं। उस समय कारसेवा के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अधिकारियों ने यह नियम बनाया था कि एक परिवार से एक व्यक्ति ही कारसेवा में जाएगा। अगर कोठारी भाइयों ने ये बात मानी होती, तो उनमें से एक आज जीवित होता, लेकिन उनकी जिद के आगे परिवार को झुकना पड़ा। पूर्णिमा बताती हैं, “राम ने कहा कि राम के काम में राम तो जाएगा। छोटे ने कहा कि राम जहां जाएगा, वहां लक्ष्मण भी जाएगा। ऐसा करके इन्होंने अधिकारियों और घर वालों दोनों को निरुत्तर कर दिया।”उन दोनों की मौत के बाद उनकी अंतिम इच्छा यानी राम मंदिर आंदोलन में उनके माता-पिता भी शामिल हो गए। पूर्णिमा ने बताया, “मेरे मां-पिता जी हर कारसेवा में अयोध्या पहुंचते थे। छह दिसंबर को जिस दिन ढांचा गिराया गया था, उस दिन भी वहां मेरे मां-पिता कारसेवा के लिए मौजूद थे।”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share