हिंदू विरोध की सारी सीमाएं लांघ गये केजरीवाल के मंत्री.. प्रभु श्रीराम तथा श्रीकृष्ण के बारे में की बेहद ही अभद्र टिप्पणी


देश की जनता से तुष्टीकरण की इसी राजनीति से त्रस्त होकर पहले 2014 तथा उसके बाद 2019 के लोकसभा चनावों में कथित छद्म सेक्यूलर राजनैतिक दलों को जमीन पर पटका था, लेकिन इसके बाद भी तुष्टीकरण की ये राजनीति ख़त्म होने का नाम नहीं ले रही है. एकसमय था जब कांग्रेस पार्टी ने प्रभु श्रीराम को काल्पनिक बताया था, सनातन के पूज्य भगवा को आतंक से जोड़ा था, इसके अलावा भी कई सारे ऐसे कारनामे किये थे, जिसके कारण जनता ने कांग्रेस को अब तक की सबसे बुरी स्थिति में पहुंचा दिया था.

ये तो रही कांग्रेस की बात, जिसका वो आज तक खामियाजा भुगत रही है लेकिन अब कांग्रेस की बनाई गई इसी राह पर चल पड़ी है दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी. जिस तरह कांग्रेस पार्टी ने सनातन के आराध्य मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम को काल्पनिक कहा था अब अरविंद केजरीवाल सरकार में मंत्री तथा आम आदमी पार्टी के नेता ने कांग्रेस से दो कदम आगे जाते हुए न सिर्फ भगवान श्रीराम बल्कि भगवान श्रीकृष्ण पर भी बेहद अभद्र टिप्पणी की है.

श्रीराम तथा श्रीकृष्ण को काल्पनिक बता गये केजरीवाल के मंत्री

केजरीवाल सरकार में मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने भगवान श्रीराम तथा कृष्ण को काल्पनिक बताया है. केजरीवाल के मंत्री ने स्वामी रामदेव के एक ट्वीट पर जवाब देते हुए कहा कि अगर यह बात प्रमाणित है कि भगवान राम और कृष्ण पूर्वज हैं तो इन्हें इतिहास में क्यों नहीं पढ़ाया जाता. पूर्वजों का इतिहास होता है, जबकि इनका कोई प्रमाणिक इतिहास नहीं है. केजरीवाल सरकार में मंत्री राजेंद्र पाल यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि यह पौराणिक कथाएं हैं, ऐतिहासिक नहीं. जबकि पेरियार का दृष्टिकोण प्रमाणिकता और तार्किकता के आधार पर था.

केजरीवाल के मंत्री का ट्वीट आते ही लोग उन पर हमलावर हो गये तथा माफी की मांग करने लगे. इसके बाद केजरीवाल जी के मंत्री ने ट्वीट डिलीट कर दिया तथा अगला ट्वीट करते हुए कहा कि उनका अकाउंट हैक हो गया था.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share