Breaking News:

कमलनाथ के मंत्री का बयान.. “मैं ज्योतिरादित्य सिंधिया का चमचा ही नहीं कढ़ाई भी हूं”


मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार के मंत्री ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि वह कांग्रेस पार्टी के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के सिर्फ चमचा ही नहीं हैं बल्कि कढ़ाई भी हैं. बता दें कि मध्य प्रदेश में इस समय सियासी बयानबाजी अपने चरम पर है. बीजेपी की तरफ से कमलनाथ सरकार की नाकामियों को लेकर लगातार हमले किये जा रहे हैं तथा सरकार को जनविरोधी करार दिया जा रहा है. बीजेपी कमलनाथ सरकार के मंत्रियों पर ये कहते हुए हमलावर है कि वो जनता के लिए नहीं बल्कि पार्टी नेताओं के लिए काम कर रहे हैं.

इस सबके बीच कमलनाथ सरकार के श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया का एक बयान खूब सुर्खियां बटोर रहा है. प्रदेश सरकार के श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा है कि मैं ज्योतिरादित्य सिंधिया का चमचा हूं. बता दें कि सिसोदिया ने गुना से बीजेपी सांसद केपी यादव द्वारा उन्हें सिंधिया का चमचा कहने पर ये बयान दिया है. मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि गुना सांसद केपी यादव ने मुझे ज्योतिरादित्य सिंधिया का चमचा कहा है. मंत्री सिसोदिया ने कहा कि मुझे इस बात का गर्व है कि मैं सिंधिया का चमचा हूं और मैं उनका चमचा ही नहीं कढ़ाई भी हूं.

कमलनाथ के मंत्री ने कहा कि मुझे गर्व है कि महाराज ने मुझे टिकट दिया और मेरा जीवन संवारा. उन्होंने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं इतने बड़े कद के आदमी का चमचा हूं. गौरतलब है कि गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराकर सांसद बने केपी यादव ने श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया को सिंधिया का चमचा कहा था. जिस पर अब पलटवार करते हुए महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि महाराज ने उन्हें विधानसभा चुनाव का टिकट देकर उनका जीवन सुधारा, इसलिए उन्हें गर्व है कि वो इतने बड़े कद के आदमी के चमचे हैं.

मीडिया से बात करते हुए जब भाजपा सांसद द्वारा उनको सिंधिया का गुलाम कहने के बारे में प्रतिक्रिया पर पूछा गया तो सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने मुझे गुलाम नहीं चमचा कहा था. उन्होंने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं कि मैं इतने बड़े कद के व्यक्ति का चमचा हूं. मैं तो चाहूंगा कि आप मुझे कढ़ाई भी कहो. चमचा कढ़ाई इकट्ठी साथ में कह दो. मंत्री ने कहा कि मैं हूं तो हूं इसमें क्या बात है और जीवन पर्यन्त रहूंगा, अपने जीवन की आखिरी सांस तक रहूंगा. मैं राजनीति छोड़ दूंगा लेकिन महाराज सिंधिया को नहीं छोडूंगा.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share