Breaking News:

सुन्नी उलेमाओं का सहारा बने उद्धव ठाकरे.. CAA के खिलाफ शिवसेना सरकार से गुहार


आज हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब ठाकरे को देश ही नही दुनिया के हर वो हिन्दू याद कर रहे हैं जिन्होंने हिन्दुओ के अंध विरोध के तथाकथित सेकुलरिज्म की आंधी में भी ये शब्द अपनी जुबान पर रखा कि गर्व से कहो हम हिन्दू हैं. आज भी बाला साहब के शब्द हर हिन्दू के कानो में गूंजा करते हैं जिस प्रकार से उन्होंने भगवा वस्त्र पहन कर कभी अकेले ही हिंदुत्व की अलख जगाए रखी थी. लेकिन समय के साथ बहुत कुछ बदलाव हो रहा है उनकी पार्टी शिवसेना में.

ध्यान देने योग्य है कि कांग्रेस और NCP की साझा सरकार चला रहे उद्धव ठाकरे अब मुस्लिम उलेमाओं की उम्मीद बन गये हैं.. CAA के खिलाफ तमाम जगहों पर हिंसक प्रदर्शन कर रहे कई उन्मादियो के साथ कुछ ऐसे उलेमा भी हैं जो इसको राजनैतिक रूप से दबाब बना कर वापस करवाना चाह रहे हैं.. उन तमाम उलेमाओं ने अब अपना सहारा उद्धव ठाकरे के रूप में देखा है. मुंबई स्थित सूफी मुस्लिम संगठन रज़ा अकेडमी के नेतृत्व में सेकड़ों सुन्नी उलेमाओं ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाक़ात की.

अपनी इस मुलाक़ात के दौरान उन्होंने उद्धव ठाकरे से विधानसभा में सीएए और एनआरसी के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित करने की अपील की। रज़ा अकादमी ने कहा कि महाराष्ट्र को “भाजपा सरकार द्वारा पारित असंवैधानिक अधिनियम” के खिलाफ केरल और पंजाब के नेतृत्व का पालन करना चाहिए। बयान में कहा गया कि “महाराष्ट्र के पूरे मुस्लिम समुदाय और धर्मनिरपेक्ष नागरिकों की ओर से, हम उलमा और इस्लामिक विद्वान अनुरोध करते हैं कि आप अपने स्वयं से अनुरोध करें और एक संकल्प को पारित करें।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share