अपराध को कैसे रौंदा जाता है, सिखा गई हैदराबाद पुलिस.. क्या मरने के बाद भी चारों दरिंदों का पीछा छोड़ दिया ?


6 दिसंबर को जब हिंदुस्तान सोकर उठा तो ऐसी खबर सुनने को मिली जिसे सुन पूरा देश खुशी से झूम उठा तथा हैदराबाद पुलिस को बारंबार सैल्यूट करने लगा. दरअसल ये वो दिन था जब हैदराबाद पुलिस ने महिला डॉ. दिशा के साथ गैंगरेप तथा उनकी बर्बरतापूर्वक ह्त्या कर जला देने वाले सभी 4 दरिंदों को एनकाउंटर के दौरान मार गिराया था. जिस तरह से दिशा के हैवानियत की गई थी उससे पूरा देश गुस्से में था, ऐसे में जब हैदराबाद पुलिस ने इन दरिंदों को मार गिराया तो देश की खुशी का ठिकाना नहीं रहा.

लेकिन हैदराबाद पुलिस इतने तक ही नहीं रुकी है बल्कि अपराध को किस तरह से रौंदा जाता है, ये हैदराबाद पुलिस सिखा रही है. दरअसल हैदराबाद पुलिस ने ठभेड़ में मारे गए सभी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. जानकारी के मुताबिक, हैदराबाद एनकाउंटर में मारे गए चारों आरोपियों खिलाफ पुलिसकर्मियों के ऊपर हमला करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. एनकाउंटर में मारे गए चारों आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307 (हत्या की कोशिश), धारा 176 और भारतीय शस्त्र अधिनियम से संबंधित अनुभागों के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ज्ञात हो कि 6 दिसंबर दिन शुक्रवार को ये एनकाउंटर उस समय हुआ जब पुलिस टीम गिरफ्तार चारों आरोपियों को लेकर वारदात वाली जगह यानी एनएच-44 पर क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए पहुंची थी। पुलिस ने बताया कि इसी दौरान इन आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनकर भागने की कोशिश की तथा पुलिस के जवानों पर हमला किया. इसी दौरान दरिंदों के साथ पुलिस की मुठभेड़ हुई तथा मुठभेड़ में सभी 4 दरिन्दे मारे गये.

हैदराबाद पुलिस की इस कार्यवाई की पूरे देश में जमकर सराहना की गई. लोगों ने पुलिस पर पुष्पवर्षा की, देशभर में पटाखे फोड़े गये तो कई जगह महिलाओं ने पुलिस के जवानों को राखी बांधी. हालाँकि इस बीच कथित मानवाधिकारी सामने आ गए तथा पुलिस की इस कार्यवाई पर सवाल खड़े कर दिए. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की टीम शनिवार को उस स्थान पर गई, जहां ये एनकाउंटर हुआ था तथा जांच की बात कही. पूरे मामले पर तेलंगाना पुलिस से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि चारों आरोपियों को लेकर क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए गई पुलिस टीम के प्रभारी की शिकायत पर शुक्रवार को चारों आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share