भारत सरकार से हुआ करती थी महंगाई की शिकायत.. क्या अब सऊदी अरब का भी होगा विरोध जिसने वहाँ जाने वाले हाजियों पर लादा और बोझ


भारत सरकार के खिलाफ आये दिन होने वाले प्रदर्शनों के साथ विपक्ष द्वारा बनाए जाने वाले तमाम मुद्दों में एक मुद्दा महंगाई भी है. कभी प्याज तो कभी टमाटर चर्चा में हुआ करता था. हालात तो यहाँ तक बने हैं कि CAA जैसे जनकल्याण के कानूनों पर भी वामपंथी व् वर्ग विशेष बेरोजगारी और महंगाई पर ध्यान देने के लिए कहता है. लेकिन अब अचानक ही महंगाई को ले कर सऊदी अरब से आ रही है ऐसी खबर जो कम से कम भारत के मुसलमानों के लिए अच्छी नहीं कही जा सकती है.

ध्यान देने योग्य है कि भारत से हज यात्रा पर सऊदी अरब जाने वाले मुसलमानों को अब ज्यादा पैसे भरने होंगे. दुनिया भर के मुसलमानों की गरीबी पर चिंता जताने वाले सऊदी अरब ने ऐसा फैसला किया है जो गरीब मुसलमानों को हज से दूर कर सकता है. सऊदी अरब की हज वीजा पर नई फीस के ऐलान के साथ ही भारतीय से हज करने जाने वाले हाजियों को अब अतिरिक्त 5696.36 रुपए चुकाने होंगे। बता दें कि इससे पहले उमराह के लिए बीमा अनिवार्य किया गया था.

सऊदी अरब ने हज वीजा पर नई फीस का किया ऐलान कर दिया। जो इस साल लागू होंगे। मुस्लिम दुनिया केजयरिनों को एजेंसियों द्वारा वसूल की जाने वाली आसमान छूती फीस के अलावा 80 डॉलर का भुगतान करना होगा। मलेशियाई मंत्री ने नई हज फीस के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इस साल के हज सीजन के लिए नई फीस देनी होगी। जो सभी देशों के हाजियों पर लागू होगी। सऊदी अरब के हज और उमराह मंत्री मोहम्मद सालेह बिन ताहेर बेंटेन ने अगले हज सत्र के लिए मलेशिया को ये जानकारी दी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share