हिंदू शरणार्थियों के विरोध में तनकर खड़ी हुई उद्धव ठाकरे की सरकार.. किया एलान- महाराष्ट्र में लागू नहीं होगा CAA


महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार भारत की नागरिकता पाने की आस लगाये बैठे हिन्दू शरणार्थियों के विरोध में तनकर खड़ी हो गई है. उद्धव सरकार ने साफ़ कर दिया है कि महाराष्ट्र में किसी भी हालात में नागरिकता संशोधन अधिनियम CAA को लागू नहीं किया जाएगा. ये बयान महाराष्ट्र में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष तथा उद्धव ठाकरे की सरकार में मंत्री बाला साहेब थोराट ने दिया है. ज्ञात हो कि महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस तथा एनसीपी गठबंधन की सरकार है.

बता दें कि 10 जनवरी से CAA देश भर में लागू हो चुका है.  केंद्र सरकार इसे लेकर नोटिफिकेशन जारी कर चुकी है. महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी की सरकार ने कहा है कि वह राज्य में सीएए को लागू नहीं होने देगी. महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और राज्य में कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने सीएए को लेकर कहा है कि हमारी भूमिका स्पष्ट है, हम सीएए को महाराष्ट्र में लागू नहीं करेंगे. उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों का साझा बयान जारी होगा.

वहीं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि केंद्र सरकार कानून जरूर बना सकती है, लेकिन उसे लागू करने का जिम्मा पूरी तरह राज्य सरकार के पास होता है. नागपुर में ‘वी द सिटिजंस ऑफ इंडिया’ द्वारा आयोजित विरोध रैली में देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र में हमारी सरकार है और केंद्र सरकार कानून जरूर बना सकती है लेकिन इसे लागू करना या नहीं करना राज्य सरकार के हाथ में होता है. साथ ही कांग्रेस के नेता और महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने भी रैली में हिस्सा लिया. उन्होंने कहा कि राज्य सीएए को लागू नहीं करेगा. राउत ने कहा कि केंद्र भले प्रयास कर लें महाराष्ट्र सरकार सीएए को राज्य में लागू नहीं होने देगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share