पहले फिल्म बुरी तरह से पिटी, अब कम्पनियों ने विज्ञापन दिखाने भी कम किये.. JNU का सौदा महंगा पड़ा दीपिका को


एक खास सोच को ले कर जिस प्रकार से दीपिका पादुकोण ने JNU में अपनी दस्तक दी थी वो अब उन पर ही नहीं बल्कि उनसे जुड़े तमाम लोगों और कम्पनियों पर भारी पड़ता दिखाई दे रहा है. जब देश दंगाईयो से जूझते अपने पुलिस बल के साथ खड़ा हो रहा था तब ठीक उसी समय पुलिस और सेना को अपमानित करने वालों के बगल में खड़ी हो जाने वाली दीपिका पादुकोण के बहिष्कार की अपील सोशल मीडिया से शुरू हो कर जमीनी स्तर पर होने लगी जिसका व्यापक असर हुआ है.

सुदर्शन न्यूज़ के प्रधान सम्पादक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने भी बिंदास बोल के माध्यम से दीपिका पादुकोण की मानसिकता पर सवाल उठाया था जिसके बाद इस मुहिम ने और जोर पकड़ लिया और अब हालात ये हैं कि पहले फिल्म छपाक बुरी तरह से पिट जाने के बाद अब उन कम्पनियों ने वो विज्ञापन भी दिखाने कम कर दिए हैं जिसमे अभिनय दीपिका पादुकोण ने किया था. यद्दपि एक तरफ समाजवादी पार्टी जैसे क्षेत्रीय दलों ने दीपिका की फिल्म को हिट करवाने के लिए तमाम प्रयास किये जो नाकाफी साबित हुए.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कुछ बड़े ब्रैंड्स ने कहा कि हालत को देखते हुए वो दीपिका अभिनीत विज्ञापनों को फिलहाल के लिए कम ही दिखा रहे. वहीं नामचीन सितारों के एंडोर्समेंट्स संभालने वाले मैनेजरों ने कहा कि आने वाले समय में विज्ञापनों के करारों में इस तरह के क्लॉज जोड़े जा सकते हैं, जिनमें किसी सिलेब्रिटी के राजनीतिक रुख तय करने से प्रशासन के नाराज हो सकने वाले जोखिम का जिक्र होगा। कोका-कोला और ऐमजॉन आदि को रिप्रेजेंट करने वाली IPG मीडियाब्रैंड्स में चीफ एग्जिक्युटिव शशि सिन्हा ने कहा, ‘सामान्य तौर पर ब्रैंड्स सुरक्षित दांव चलते हैं। वे किसी विवाद से बचना चाहते हैं।’


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share