उन्मादी कफील खान को जमीन सुंघा रही योगी सरकार.. रासुका के तहत हुई कार्यवाई


कथित बुद्धिजीवियों तथा सेक्यूलरों का समर्थन पाकर लगातार उन्मादी तथा भड़काऊ बयानबाजी कर रहे कफील खान को योगी सरकार ने जमीन सुंघाने की तैयारी कर ली है. खबर के मुताबिक़, भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जेल की सलाखों के पीछे कैद कफील खान पर योगी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून(NSA-रासुका) लगा दिया है. रासुका लगाये जाने के बाद कफील खान की मुश्किलें बढ़ गई हैं. ये वही कफील खान है जिस पर गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत का भी आरोप है.

बता दें कि कफील खान पर पिछले साल 12 दिसंबर को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ भाषण देने का आरोप है. उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (UPSTF) ने कफील खान को 29 जनवरी को मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी के बाद डॉ. कफील खान को अलीगढ़ लाया गया था. अलीगढ़ जेल में कुछ मिनट बिताने के बाद उन्हें तत्काल मथुरा जेल ट्रांसफर कर दिया गया. बाद में सोमवार को अलीगढ़ के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने उन्हें जमानत दे दी थी.

जमानत मिलने के बाद कफील खान जेल से बाहर आता, इससे पहले ही योगी सरकार ने रासुका लगा दिया. अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरी ने बताया है कि डॉ कफील खान के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की गई है और वह जेल में ही रहेंगे. देशभर में सीएए के विरोध में एनएसए तामील किए जाने की यह पहली कार्यवाही है. अलीगढ़ के डीएम चंद्रभूषण सिंह ने कहा कि डॉ कफील खान पर रासुका तामील कर रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेज दी गई है. रासुका तामील होने के बाद उनकी जमानत पर जेल से रिहाई रोक दी गई है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share