Breaking News:

शिकारा बना कर एक बार फिर से शिकार किया जा रहा कश्मीर के उन हिन्दुओं का जिन्होंने देखा है दुनिया का सबसे खौफनाक अतीत मजहबी चरमपंथ का


उन सभी को याद है लगभग 30 वर्ष पहले का वो खौफनाक मंजर जब उनको उनके ही देश में शरणार्थी बनने पर मजबूर कर दिया गया था. उनका दोष केवल इतना था कि वो हिन्दू थे और उस इलाके में संख्या में कम. उन्होंने किसी का भी कुछ भी नहीं बिगाड़ा था लेकिन उनको हर वो प्रताड़ना दी गई जो मानवता के विरुद्ध थी. अब जब वर्तमान सरकार की नीतियों से उनमे दुबारा अपने घर में वापस जाने की आस बंधी है तब ठीक उसी समय एक फिल्म बना कर कुरेदे गये हैं उनके जख्म.

यहाँ बात चल रही है bollywood की फिल्म शिकारा की. अमूमन हिन्दू विरोधी मानसिकता पर बहुमत में रहा bollywood फिर से एक फिल्म को ले कर चर्चा में है जिसमे इतिहास ही नहीं वर्तमान के उलट सब कुछ दिखाया गया है. बॉलीवुड में कश्मीरी हिंदुओं की व्यथा दिखाने का दावा करने वाली बॉलीवुड के निर्माता और निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म शिकारा  रिलीज हो चुकी है और इसी के साथ उस पर   विवाद भी शुरू हो चुका है. इसका विरोध सबसे  पहले   कश्मीर के हिन्दुओं ने ही किया है.

इस फिल्म का विरोध करने वाली दिव्या राजदान का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर चर्चा माँ विषय बना हुआ है. दिव्या राजदान ने फिल्म के निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा पर आरोप लगाया है कि उन्होंने सिर्फ अपनी फिल्म के प्रचार के लिए कश्मीरी हिंदुओं की वास्तविकता बयान करने के बजाय एक ऐसी प्रेम कहानी बनाकर उसका मजाक बना दिया । उन्होंने यह भी कहा कि, उन्हें इस फिल्म का विरोध करने पर इस फिल्म से जुड़े लोगों ने चुप रहने की भी राय दी।

सुदर्शन न्यूज़ के प्रधान सम्पादक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने इस मामले में बिंदास बोल भी किया जिसमे उन्होंने तमाम ऐसे अन्य सच भी सामने रखे कि क्यों bollywood लगातार हिन्दू विरोध का अड्डा बनता जा रहा है.. देखिये वो विशेष बिंदास बोल नीचे लिंक में –


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share