Breaking News:

महाराष्ट्र में बिगड़ेगा शिवसेना का गणित ? शरद पवार के बयान के बाद अब पीएम मोदी ने एनसीपी के लिए कहा कुछ ऐसा जिससे मच गई सियासी हलचल


महाराष्ट्र का सियासी ऊंट किस करवट बैठेगा, इसका अभी तक पता नहीं चल पा रहा है. बीजेपी शिवसेना गठबंधन टूटने के बाद जब ये तय सा नजर आ रहा था कि शिवसेना एनसीपी तथा कांग्रेस मिलकर सरकार बना रहे हैं, तब महाराष्ट्र में नया गुल खिलता हुआ दिखाई दे रहा है. ये गुल खिलेगा या नहीं ये बाद की बात है लेकिन इससे शिवसेना खेमे में बेचैनी बढ़ी है. आज पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार का बयान फिर राज्यसभा में पीएम मोदी द्वारा एनसीपी की तारीफ़ किये जाने से सियासत गर्मा गई है.

बता दें कि आज से संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत हुई है. संसद का शीतकालीन सत्र इस बार ऐतिहासिक है. ऊपरी सदन राज्यसभा में सोमवार को 250वें सत्र की शुरुआत हुई. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन को संबोधित किया. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि इन 250 सत्रों के बीच जो यात्रा चली है, उनको नमन करता हूं. अपने संबोधन में आखिर में प्रधानमंत्री ने कुछ ऐसा कहा कि राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई.

दरअसल, 250वें सत्र के दौरान जब प्रधानमंत्री संबोधित कर रहे थे, तब उन्होंने शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) की तारीफ की. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमें सदन में रुकावटों की बजाय संवाद का रास्ता चुनना चाहिए, एनसीपी-बीजेडी की विशेषता है कि दोनों ने तय किया है कि वो लोग सदन के वेल में नहीं जाएंगे.’ पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी राजनीतिक दलों को सीखना होगा कि ये नियम का पालन करने के बावजूद भी इनके विकास में कोई कमी आई है, हमारी पार्टी (BJP) को भी ये सीखना चाहिए. हमें इन पार्टियों का धन्यवाद करना चाहिए. जब हम विपक्ष में थे, तो भी ये काम करते थे लेकिन इन दो पार्टियों ने इस उदाहरण को तय किया है.

पीएम मोदी द्वारा एनसीपी की तारीफ़ के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं. राजनैतिक जानकारों का मानना है कि पीएम मोदी की ये गुगली जहाँ शिवसेना को परेशान करने वाली है तो वहीं महाराष्ट्र में नए सियासी समीकरण का संकेत भी है. शरद पवार जिस तरह के राजनेता है, उस आधार उनकी रणनीति को पढ़ना कभी किसी के लिए भी आसान नहीं रहा. सियासी पंडित आशंका लगा रहे हैं कि अचंभा नहीं होना चाहिए कि आगे चलकर राज्य में बीजेपी सरकार बन जाए तथा एनसीपी उसका समर्थन कर दे.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में जिस तरह सरकार गठन को लेकर कशमकश चल रही है. बीजेपी का साथ छोड़ शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ आने को तैयार है लेकिन अभी तक सरकार गठन पर कोई फाइनल तस्वीर साफ नहीं दिख रही है. उस बीच पीएम मोदी के द्वारा NCP की तारीफ करना एक संदेश देता है. इससे पहले आज सुबह एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा था कि महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए उनसे नहीं बल्कि बीजेपी तथा शिवसेना से पूंछा जाना चाहिए. पवार के ये बदले हुए तेवर तथा फिर पीएम मोदी द्वारा एनसीपी की तारीफ़ से संभव है कि नया सियासी गठजोड़ उभर आये.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share