Breaking News:

खाल से भी ज्यादा प्रिय वर्दी उतरने वाली है जांबाजी की मिशाल और आतंकियों के काल माने जाने वाले मेजर गोगोई की मेजर गोगोई पर कार्यवाही से आक्रोशित हुआ देश

मेजर लीतुल गोगोई..जांबाजी की वो पहिचान जिसके नाम से आतंकी कांपने लगते हैं..मेजर लीतुल गोगोई वो नाम है जो न सिर्फ कश्मीर घाटी के पत्थरबाजों बल्कि उन आतंकियों के लिए भी खौफ तथा दहशत का पर्याय है बल्कि उनका काल भी है जो पाकिस्तान से पावन भारतभूमि को दहलाने के लिए आते हैं. लेकिन अब मेजर गोगोई से जुडी एक ऐसी खबर सामने आ रही है जिससे भारतीय सेना का मनोबल तो गिरेगा ही, साथ ही पूरा राष्ट्र न सिर्फ निराश है बल्कि आक्रोशित भी है. जी हां..खबर आ रही है कि मेजर गोगोई को खाल से भी प्रिय उनकी सेना की वर्दी उतरने वाली है, मेजर गोगोई के खिलाफ कार्यवाही होने जा रही है.

खबर के मुताबिक़, सेना ने मेजर लितुल गोगोई को उनकी इकाई से हटाकर स्थानीय फॉर्मेशन मुख्यालय भेज दिया है.  बताया गया है कि सेना के कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी (सीओआई) द्वारा श्रीनगर में एक स्थानीय महिला के साथ ”दोस्ती करने” करने के मामले में दोषी पाए जाने के बाद उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई है.सेना की तरफ से पिछले महीने गठित सीओआई ने 53 राष्ट्रीय राइफल्स के अधिकारी गोगोई को दो मामलों में दोषी पाया – पहला निर्देश के बावजूद स्थानीय महिला के साथ ”दोस्ती करने” और ”अभियान वाले इलाके में होने के बावजूद ड्यूटी से दूर रहना.” इसने उनके खिलाफ समरी ऑफ एविडेंस की अनुशंसा की. कोर्ट मार्शल की प्रक्रिया शुरू किए जाने से पहले का यह कदम होता है.

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, गोगोई को बडगाम में उनकी इकाई से हटा दिया गया है और अवंतीपुरा में विक्टर फोर्स मुख्यालय से ”संबद्ध” कर दिया गया है. ज्ञात हो कि पिछले वर्ष नौ अप्रैल को कश्मीर में पथराव कर रहे युवकों से बचने के लिए एक वाहन के बोनट से एक नागरिक को बांधने के उनके निर्णय के बाद वह विवादों में आए थे. अब उन्हें समरी ऑफ एविडेंस का सामना करना होगा. यह प्रक्रिया आरोप तय किए जाने के समान है. प्रक्रिया में तीन महीने का समय लगने की संभावना है. मेजर गोगोई के खिलाफ इस कार्यवाही से देशभर से आक्रोश के सवार उठ रहे हैं तथा लोगों का कहना है कि मेजर गोगोई के खिलाफ ये कार्यवाही गलत है. सामाजिक संगठनों ने गोगोई के खिलाफ इस कार्यवाही के विरोध में आन्दोलन करने की चेतावनी दी है. लोगों का कहना है कि एक तरफ कश्मीर में हमारे जवानों की हत्याएं की जा रही हैं वहीं हमारी सरकार भी सेना पे ही जुल्म कर रही है.

Share This Post