कोतवाली में घुसकर पुलिस कांस्टेबल को घूँसा मारा उस पार्टी के नेता ने, जिस पार्टी को कुछ दिन पहले भारत में दिख रही थी असहिष्णुता

उस नेता की हिमाकत तो देखिए कि वह पुलिस थाने में घुसा तथा पुलिस कांस्टेबल को ही मुक्का मार बैठा. थाने में घुसकर पुलिस कांस्टेबल को घूंसा मारने वाला ये नेता भी उस राजनैतिक पार्टी का था जो पार्टी हाल ही तक देश में असहिष्णुता बढ़ने की बात कर रही थी. तब सवाल खड़ा होता है कि जब उसी पार्टी का नेता पुलिस थाना में घुसकर राष्ट्रसेवक पुलिस के जवान को घूंसा मारता है तो क्या ये घटना असहिष्णुता की श्रेणी में नहीं आती ? सवाल ये भी है कि आखिर ये पार्टी अपने नेता की इस हरकत पर चुप क्यों है?
मामला देवभूमि उत्तराखंड के नैनीताल जिले के लालकुआं कोतवाली क्षेत्र का है जहां तैनात कांस्टेबल को यूथ कांग्रेस के विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष कमल दानू ने इसलिए घूंसा मार दिया क्योंकि कांस्टेबल ने कांग्रेस नेता ने कोतवाली परिसर में खड़े होने का कारण पूंछ लिया था. इससे गुस्साए यूथ कांग्रेस के विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष कमल दानू ने उसे घूंसा जड़ दिया. कमल के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने और सरकारी कर्मचारी से मारपीट का मुकदमा दर्ज किया गया है. विकासपुरी निवासी रविंद्र जग्गी को किसी मामले में पूछताछ के लिए कोतवाली लाया गया था. उसकी पैरवी के लिए सोमवार रात 12 बजे यूथ कांग्रेस नेता कमल अपने साथियों के साथ कोतवाली पहुंचा था.
आरोप है कि इस दौरान कांस्टेबल पूरन कंबोज ने कमल से कोतवाली में खड़े होने का कारण पूछा तो वह उलझ गया और रविंद्र को छोड़ने की बात कहकर अभद्रता करने लगा. पूरन कंबोज ने मामले में उच्चाधिकारियों से बात करने की सलाह दी तो कमल ने कोतवाली के अंदर ही पूरन के मुंह पर घूंसा जड़ दिया. पूरन ने शोर मचाकर अन्य पुलिस कर्मियों को बुलाया लेकिन तब कमल भाग चुका था. इसके बाद सिपाही की तहरीर पर कोतवाली में कमल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया गया. पुलिस ने रात में ही कमल को गिरफ्तार करने के लिए कई स्थानों में दबिश दी लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल सका. कोतवाल योगेश उपाध्याय ने बताया कि कमल के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है तथा उसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.
राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW